हिन्दीफ़ीड्स

हिन्दीफ़ीड्स

महिंद्रा एंड महिंद्रा के अध्यक्ष आनंद महिंद्रा की सफलता की कहानी

महिंद्रा एंड महिंद्रा के अध्यक्ष आनंद महिंद्रा की सफलता की कहानी

महिंद्रा एंड महिंद्रा के अध्यक्ष आनंद महिंद्रा की सफलता की कहानी

आनंद महिंद्रा का जन्म 1 मई 1955 को मुंबई में हुआ था और वे एक प्रसिद्ध व्यवसायी परिवार से ताल्लुक रखते हैं। उनके पिता का नाम हरीश महिंद्रा और माता का नाम इंदिरा महिंद्रा है। आनंद ने अपनी प्रारंभिक स्कूली शिक्षा लॉरेंस स्कूल लवडेल से पूरी की है।

उसकी दो बहनें हैं – राधिका नाथ और अनुजा शर्मा।

आनंद ने 1977 में हार्वर्ड विश्वविद्यालय से वास्तुकला और फिल्म निर्माण का अध्ययन किया। उन्होंने 1981 में बोस्टन, मैसाचुसेट्स में हार्वर्ड बिजनेस स्कूल से अपना मास्टर ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन (एमबीए) की डिग्री हासिल की है।

आनंद महिंद्रा की शादी अनुराधा महिंद्रा से हुई है। उनकी पत्नी अनुराधा रॉलिंग स्टोन इंडिया की प्रधान संपादक हैं। वह ‘मैन्स वर्ल्ड‘ और वर्व पत्रिकाओं की प्रसिद्ध संपादक हैं। इनकी दो बेटियां (जुड़वा) हैं।

आनंद महिंद्रा महिंद्रा एंड महिंद्रा के सह-संस्थापक जगदीश चंद्र महिंद्रा के पोते हैं। आनंद ने एक गैर-सरकारी संगठन नन्ही कली की स्थापना की है, यह 1996 से भारत में वंचित लड़कियों की शिक्षा का समर्थन करता है।

आनंद 1981 में Mahindra Ugine Steel Company (MUSCO) में शामिल हुए। वह वित्त निदेशक Mahindra Ugine Steel Company के कार्यकारी सहायक के रूप में काम करते थे। 1989 में आनंद MUSCO के अध्यक्ष बने है।

उन्होंने रियल एस्टेट के विकास और आतिथ्य के क्षेत्रों में महिंद्रा यूजीन स्टील कंपनी का विस्तार किया। आनंद को 1991 में भारत की सबसे बड़ी ऑटोमोबाइल कंपनी महिंद्रा एंड महिंद्रा समूह के उप प्रबंध निदेशक का कार्य सौंपा गया था।

बता दे यह भारत के शीर्ष दस औद्योगिक घरानों में से एक है। आनंद 2003 में महिंद्रा ग्रुप के वाइस चेयरमैन बनाये गए थे।

आनंद महिंद्रा कोटक महिंद्रा फाइनेंस लिमिटेड के सह-प्रवर्तक थे। 2003 में कोटक महिंद्रा फाइनेंस लिमिटेड ने इसे एक बैंक में बदल दिया। अब कोटक महिंद्रा बैंक भारत के प्रमुख निजी क्षेत्र के बैंकों में से एक बैंक है।

महिंद्रा एंड महिंद्रा समूह ने 2002 में स्कॉर्पियो और एक स्वदेशी रूप से विकसित एसयूवी पेश की, जिसने इसे वैश्विक पहचान देने में मदद की और महिंद्रा समूह पर सकारात्मक प्रभाव देखा गया। इस प्रकार कंपनी ग्रीनफील्ड व्यवसाय विकास और अधिग्रहण दोनों के माध्यम से विकसित हुई है।

कंपनी के विस्तार की गतिविधियों में 2009 में रेवा इलेक्ट्रिक वाहन और सत्यम कंप्यूटर सर्विसेज का मालिकाना हक लेना शामिल है।

आनंद महिंद्रा एक भारतीय अरबपति व्यवसायी हैं और मुंबई स्थित व्यापार समूह, महिंद्रा समूह के अध्यक्ष हैं। यह आफ्टरमार्केट, ऑटोमोटिव, एयरोस्पेस, वित्त, बीमा, कृषि व्यवसाय, घटकों, रक्षा, ऊर्जा, निर्माण उपकरण, कृषि उपकरण, अवकाश, आतिथ्य, औद्योगिक उपकरण, सूचना प्रौद्योगिकी, रसद, अचल संपत्ति और खुदरा क्षेत्र में काम करता है।

आनंद हार्वर्ड बिजनेस स्कूल और हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के पूर्व छात्र रह चुके हैं। जनवरी 2021 तक उनकी कुल संपत्ति लगभग 1.6 बिलियन डॉलर है। उन्हें फॉर्च्यून पत्रिका द्वारा ‘दुनिया के 50 महानतम नेताओं’ में शामिल किया गया है।

आनंद को 2013 के लिए फोर्ब्स (भारत) द्वारा ‘वर्ष के उद्यमी’ के रूप में सम्मानित किया गया था। आनंद को भारत में तीसरा सबसे बड़ा नागरिक पुरस्कार पद्म विभूषण जनवरी 2020 में  दिया गया था।

आनंद वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम के सह-अध्यक्ष भी हैं। व्यापार क्षेत्र में उनके उत्कृष्ट योगदान के लिए उन्हें राजीव गांधी पुरस्कार भी मिल चुका है।

उन्हें अमेरिकन इंडिया फाउंडेशन से लीडरशिप अवार्ड मिला है। आनंद को ऑटो मॉनिटर की ओर से पर्सन ऑफ द ईयर के पुरस्कार से भी नवाजा जा चुका है।

यह भी पढ़ें :

D’Mart के संस्थापक और मालिक राधाकिशन दमानी की सफलता की प्रेरणादायक कहानी