ADVERTISEMENT

आत्मसम्मान का भाव : Atmasamman ka Bhav

Atmasamman ka Bhav
ADVERTISEMENT

कहते है की जब तक जब तक जीएँ आत्मसम्मान के साथ जीएँ।क्या बिना आत्मसम्मान के जीना भी कोई सार्थक जीने की बात
है। इससे ज़्यादा महत्वपूर्ण बात यह है कि कोई क्या बोले करे कहे मुझे क्या मानता है आदि इससे अधिक कि मुझे कौन खुद से बेहतर जान सकता है। हमारे भव-भवान्तर से अर्जित कर्म-श्रृंखला शुभ -अशुभ रूप में फल देकर निश्चित स्थिति के बाद निर्जरित होगी ही होगी ।

आवश्यकता है समभाव रखते हुए मनोबल और आत्मबल के साथ हायतोबा न मचाते हुए नए कर्मों की श्रृंखला के न वांछित करने की।हमारे विवेक से हम ये समझते हुए की हर गहन अंधेरी अमावस्या अति हैं तो पूर्णिमा की चांदनी बिखेरती रात भी आति है और रात के बाद सुबह और हर कर्म एक निश्चित समय के बाद उदय में आकर अपना फल देकर आत्मा से अलग होता ही है।

ADVERTISEMENT

हम नए सिरे से और कर्म बन्धन से बचें ,जागरूकता बरतते हुए और बंधे हुए को समतापूर्वक सहन करें आत्मविश्वास और मनोबल को मजबूत बनाते हुए। गतिशीलता ही जीवन है ।

मन के हारे हार है, मन के जीते जीत। हमारे होंसले हमेशा बुलन्द रहे, चट्टान की तरह किसी भी परिस्थिति में हम कायर न बनें । जिंदगी परिस्थितियों से लड़ने का नाम है,डरने का नहीं।

ADVERTISEMENT

कर्म के गहन बन्ध करने से डरें, बंधे हुए को भोगने में नहीं, क्योंकि हम कर्मबांधने में स्वतंत्र है, भोगने में नहीं , ये हमेशा हमारा चिंतन चलता रहे तो हम जागरूक रहते हुए कर्मबन्ध से काफी हद तक बच सकते हैं । यहीं हमारे लिए काम्य है।

यह भी पढ़ें :-

मकर संक्रान्ति : Makar Sankranti

ADVERTISEMENT

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *