हिन्दीफ़ीड्स

हिन्दीफ़ीड्स

पढ़ाई में मन नहीं लगता था लेकिन IAS बनने की चाह ने बदल दी इस शख्स की जिंदगी

पढ़ाई में मन नहीं लगता था लेकिन IAS बनने की चाह ने बदल दी इस शख्स की जिंदगी

पढ़ाई में मन नहीं लगता था लेकिन IAS बनने की चाह ने बदल दी इस शख्स की जिंदगी

IAS success story:

कहते हैं अगर कोई व्यक्ति कुछ करने की ठान ले तो निश्चित रूप से उसे सफलता मिलकर रहती है। इमानदारी से यदि मेहनत किया जाए तो दुनिया का कोई भी मुकाम ऐसा नहीं है जो हासिल न किया जा सके।

कुछ ऐसा ही कर दिखाया है बिहार के अनुराग ने। यूपीएससी की तैयारी करने वाले ज्यादातर लोगों का मानना है कि इस परीक्षा को पास करने के लिए बैकग्राउंड पर अच्छी पकड़ होनी चाहिए।

हालांकि कुछ लोग ऐसे भी हैं जो इस मिथक को तोड़ते हैं। कई लोग आज ऐसे हैं जो शुरुआत में पढ़ने में अच्छे नहीं थे लेकिन यूपीएससी परीक्षा के लिए ईमानदारी से मेहनत करते हैं और कामयाब होकर दिखाते हैं।

Anurag Singh की कहानी आज हम आप की लिए लेकर आये हैं, जो बिहार के कटिहार जिले के रहने वाले है। अनुराग सिंह अनेको विद्यार्थियों के लिए एक मिसाल है।

कॉलेज की दिनों में पढ़ाई में उनका बिल्कुल भी मन नहीं लगता था। हालात इतने बुरे थे कि ग्रेजुएशन के दौरान वह कई सब्जेक्ट में फेल भी हो गए थे।

लेकिन जब एक बार उन्होंने आईएएस (IAS) बनने की ठानी तब उन्होंने कभी भी पीछे मुड़कर नहीं देखा।

Anurag Singh का शुरुआती सफर :-

Anurag Singh की  शुरुआती पढ़ाई हिंदी मीडियम में बिहार से हुई थी। हाई स्कूल में अंग्रेजी मीडियम में दाखिला लिया तो उन्हें परेशानी हुई।

लेकिन उन्होंने अपनी मेहनत से हाई स्कूल में अच्छे नंबर लाए। इंटरमीडिएट में भी उन्हें अच्छे नंबर मिले। जिससे उन्हें दिल्ली के Shri Ram College Of Commerce में एडमिशन मिल गया। लेकिन यहां पर पढ़ाई में उनका मन नहीं लग रहा था।

जिसकी वजह से उन्हें कई सब्जेक्ट पास करने के लिए कई बार प्रयास करना पड़ा। जब उन्होंने पोस्ट ग्रेजुएशन में एडमिशन लिया तब वह मन ही मन IAS बनने की ठानी और तैयारी शुरू की।

पहली बार में ही सफलता मिली :-

Anurag Singh ने जब यूपीएससी में सफलता प्राप्त करने की ठानी तो अपनी रणनीति बनाकर तैयारी में जुट गये। उन्होंने बिल्कुल जीरो से तैयारी शुरू की। नतीजा यह रहा कि पहले ही प्रयास में उन्हें सफलता मिल गई।

लेकिन उन्हें मन मुताबिक रैंक नही मिल पाई थी क्योंकि वह IAS बनना चाहते थे। इसलिए उन्होंने दोबारा कोशिश की।

दूसरी बार जब उन्होंने यूपीएससी की परीक्षा दी तो फिर से परीक्षा में सफल हो गए और अच्छी रैंक भी आई। उन्होंने अपना सपना पूरा कर लिया। साल 2018 के यूपीएससी परीक्षा में उन्हें 48 मिली।

यह भी पढ़ें :जमीन पर गिरे आटे से पेट भरने वाले IRS अधिकारी की प्रेरक कहानी

इस तरह से Anurag Singh ने देश की सबसे कठिन माने जाने वाली यूपीएससी की परीक्षा में कामयाबी हासिल की और लोगों के लिए प्रेरणा बन गए हैं।

युवाओं को सलाह :-

Anurag Singh का कहना है कि Civil service की तैयारी के लिए अच्छे बैकग्राउंड पर निर्भर न रहने के बजाय तैयारी पर ध्यान देना चाहिए। यह एक ऐसी परीक्षा है जिसमें आप जीरो से शुरू करके सफलता हासिल कर सकते हैं।

Anurag Singh का मानना है कि यूपीएससी की परीक्षा देने में कभी भी जल्दबाजी नहीं करनी चाहिए। सबसे पहले सिलेबस को देखें और उसके आधार पर अपनी खुद की रणनीति बनाएं और उसी रणनीति में मन लगाकर मेहनत करें और परीक्षा में शामिल हो।

Anurag Singh कहते हैं कि यूपीएससी में सफलता प्राप्त करने के लिए तैयारी के लिए पर्याप्त समय देना चाहिए।

हर चीज को अच्छे ढंग से पढ़ कर उसकी प्रैक्टिस करनी चाहिए। सही दिशा में सही ढंग से मेहनत करेंगे तो निश्चित रूप से सफलता मिलेगी।