हिन्दीफ़ीड्स

हिन्दीफ़ीड्स

क्या वैकल्पिक विषय बदल कर UPSC CSE में बेहतर रैंक मिल सकती है?

क्या वैकल्पिक विषय बदल कर UPSC CSE में बेहतर रैंक मिल सकती है?

क्या वैकल्पिक विषय बदल कर UPSC CSE में बेहतर रैंक मिल सकती है?

UPSC (संघ लोक सेवा आयोग) के इच्छुक होने और CSE (सिविल सेवा परीक्षा) को पास करने से लेकर अधिकारी बनने तक का सफर काफी कठिन माना जाता है।

हर साल इस प्रतियोगी परीक्षा में शामिल होने वाले उम्मीदवारों की बढ़ती संख्या के साथ यह कठिन होता जाता है।

परीक्षा पास करने वाले प्रत्येक अधिकारी की अपनी सफलता और असफलता की कहानियां होती हैं, साथ ही तैयारी के दौरान उनके लिए काम करने वाली रणनीतियों और युक्तियों भी अलग अलग होती है।

IAS वरुण रेड्डी ऑल इंडिया रैंक 7 पा कर असफलता से पीछा छुड़ाया। वरुण रेड्डी 2018 में अपने पांचवें प्रयास में यह रैंक हासिल की है।

वरुण रेड्डी के अनुसार “इतने सारे प्रयासों के लिए तैयार होने के बाद, मैं कह सकता हूं कि मेरे लिए काम करने वाली तीन चीजों में सीमित संसाधनों का उपयोग करना भी प्रमुख रूप से सामिल था।

अपने तैयारी को असफलता के बाद व्यापक रूप से संशोधित करें और जितना संभव हो उतना अभ्यास करे।

आईआईटी-बॉम्बे कंप्यूटर साइंस स्नातक से  वरुण 2013 में पास आउट हो गये थे, लेकिन इंजीनियरिंग के अपने तीसरे वर्ष की पढ़ाई करते हुए UPSC CSE में शामिल होने का फैसला किया।

उन्होंने कहा “यह एक इंटर्नशिप का दौरान था जब सीएसई के लिए उपस्थित होने की मेरी इच्छा पैदा हुई।

मुझे लगा कि प्रशासनिक सेवाओं का हिस्सा होने के नाते जो काम किया जा सकता है, उसका दायरा बहुत व्यापक है। इसे ध्यान में रखते हुए, मैंने अपनी तैयारी प्रारम्भ की।

अपने पहले प्रयास में वरुण ने भूगोल को अपने वैकल्पिक विषय के रूप में चुना था और वह कहते हैं कि भले ही उन्होंने इसे साक्षात्कार के चरण तक पहुँचाया, लेकिन उन्हें लगता है कि यह एक “दिशाहीन प्रयास” था।

2013-14 के दौरान, जब वरुण ने अपना पहला प्रयास दिया, तो उम्मीदवारों के लिए ऑनलाइन कई संसाधन उपलब्ध नहीं थे।

“जबकि भूगोल ने उस वर्ष मेरे साक्षात्कार में योगदान दिया, लेकिन वह कहते है पूर्व-निरीक्षण के बिना भूगोल को चुनना एक बुरा निर्णय था। मुझे गणित चुनना चाहिए था।

वैकल्पिक विषय के रूप में भूगोल के साथ दो प्रयास देने के बाद वरुण ने अपने वैकल्पिक पेपर को गणित में बदलने का फैसला किया और उनका मानना ​​है कि निर्णय एक गेम चेंजर साबित हुआ था। वह बताते है कि उन्होंने मात्र डेढ़ महीने में ही पूरा गणित सिलेबस समाप्त कर दिया था।

UPSC उम्मीदवारों के लिए टिप्स

1.एक अध्ययन का वातावरण चुनें जो आपके लिए काम करे

वरुण ने अपने अध्ययन के अधिकांश घंटे पुस्तकालय में बिताए।  वे कहते हैं यज गंभीरता की भावना को प्रेरित करता है।

वह बताते है कि अपने आस-पास के सभी लोगों को पुस्तकालय में पढ़ते और कड़ी मेहनत करते हुए देखकर मुझे हमेशा अतिरिक्त मेहनत करने के लिए प्रेरित किया।

वह उम्मीदवारों से छोटे लक्ष्य निर्धारित करने का भी आग्रह करते है जिन्हें कोई प्राप्त कर सकता है। उनका कहना है कि अपने शेड्यूल पर टिके रहने से सिलेबस को समय पर पूरा करने में भी मदद मिलेगी।

वह कहते है “लक्ष्य निर्धारित करना भी अनिवार्य है जो आपको लगता है कि आप प्राप्त कर सकते हैं। अवास्तविक लक्ष्य निर्धारित करने का कोई मतलब नहीं है।

वह कहते है “लाइब्रेरी में होने का एक और फायदा है। एक तो सभी इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स और इससे होने वाली गड़बड़ी से दूर रहते है। यह पढ़ाई के दौरान बेहतर आत्म-नियंत्रण को जोड़ता है।

2.सीमित संसाधन और अधिकतम अभ्यास

वह कहते है उम्मीदवारों को कई संसाधन सामग्री को देखने और अध्ययन करने के लिए लुभाया जा सकता है।

हालाँकि गलती को करने के बाद, वरुण कहते हैं, “एक अतिरिक्त पुस्तक या संसाधन सामग्री लेने का लालच न करें।

सिर्फ उन रिसोर्स व बुक्स को रखने की कोशिश करें जिन्हें आपने प्रीलिम्स और मेन्स के लिए चुना था।” समाचार पत्रों और पत्रिकाओं के माध्यम से से पेपर को हल करने के लिए आवश्यक सभी अतिरिक्त जानकारी में मदद मिलेगी।

नए संसाधनों को देखने में अपने समय का उपयोग करने के बजाय, वरुण सुझाव देते हैं कि मॉक टेस्ट और निबंध प्रश्नों का प्रयास करें।

वह अपने अनुभव साझा करते हुए कहते है कि “इससे इस विषय पर किसी की पकड़ में काफी सुधार होगा। अभ्यास ही आपको बेहतर बनने में मदद कर सकता है,”।

3.कंफर्ट जोन से निकले

पहले दो प्रयासों में सफलता नहीं मिलने के बाद वरुण कहते हैं कि उन्होंने फिर से अपनी तैयारी शुरू करने से पहले कम्फर्ट जोन से बाहर निकलने की आवश्यकता महसूस की।

वह कहते है “मैं अपने कम्फर्ट जोन से अलग होना चाहता था। पहली बात यह थी कि एक नए इलाके में जाना और खुद को एक नए माहौल में रखना था। इस वजह से मैंने अपना वैकल्पिक पेपर भी बदल दिया।’

वरुण अपने तीसरे प्रयास में 166 रैंक प्राप्त करने में सफल रहे थे व उनको अपने चौथे प्रयास में 225 वें स्थान मिला, जिससे वह निराश हो गए थे।

वह बताते है कि “एक साल तक कड़ी मेहनत करने के बाद, 166 से 225 तक जाना कुछ ऐसा नहीं था जिसकी मुझे उम्मीद थी”।

यह वह समय भी था जब वरुण ने महसूस किया कि परीक्षा में बदलाव कैसे आ रहा है, यह एक गंभीर बदलाव आवश्यक था।

4.एक मजबूत सपोर्ट सिस्टम खोजें

अपने आस-पास एक मजबूत सपोर्ट सिस्टम बनाना महत्वपूर्ण है। वरुण का कहना है कि अंतिम समय में अपने वैकल्पिक पेपर को बदलने से उनके आस-पास के लोगों से बहुत निराशा हुई।

हालांकि, वह आगे कहते हैं, “नकारने वालों के साथ, मुझे अपने परिवार और कुछ दोस्तों का भी समर्थन मिला, जिन्हें विश्वास था कि मैं इसे बना लूंगा और इससे मुझे बहुत मदद मिली। इसने मेरे आत्मविश्वास के स्तर को भी बढ़ाने में मदद की। ”

वरुण बताते है जब उन्होंने गणित की तैयारी शुरू की, तभी उन्हें एहसास हुआ कि यह उतना कठिन नहीं है जितना कि बताया जा रहा है।

“यदि आप गणित की तैयारी के लिए ‘x’ घंटे लगाते हैं, तो आप अच्छे परिणाम प्राप्त करने के लिए निश्चिंत हो सकते हैं। इसके लिए केवल आपके सामने पाठ्यक्रम की अच्छी योजना बनाने की आवश्यकता है बस।

बता दे गणित, एक वैकल्पिक के रूप में आपके वैकल्पिक स्कोर को ऊपर उठाने में भी मदद करता है।

यह भी पढ़ें :

सेल्समैन के बेटे को स्टेनफोर्ड यूनिवर्सिटी से मिली स्कॉलरशिप इस तरह से रहा अलीगढ़ से अमेरिका का सफर