नवम्बर 28, 2022

Motivational & Success Stories in Hindi- Best Real Life Inspirational Stories

Find the best motivational stories in hindi, inspirational story in hindi for success and more at hindifeeds.com

Mother and son pass PSC exam together

42 साल की मां और 24 साल के बेटे की कहानी जिन्होंने एक साथ PSC की परीक्षा में एक साथ हासिल की है सफलता

जैसे की हम यह बात भली-भांति जानते हैं कि हर किसी इंसान की जिंदगी में शिक्षा का काफी महत्व होता है , शिक्षा से ही इंसान की पहचान अर्थात शिक्षा के बदौलत इंसान ऊंचे मुकाम और अच्छी नौकरी को प्राप्त कर पाता है ।

परंतु यह बात भी सत्य है कि शिक्षक प्राप्त करने की किसी प्रकार की निश्चित आयु या समय नहीं होता है शिक्षा एक ऐसा मुकाम है जिसे किसी भी समय प्राप्त किया जा सकता है और इसकी बदौलत जिंदगी में सफलता हासिल की जा सकती है ।

कुछ इसी प्रकार का एक मामला केरल के मल्लपुरम से सामने आया है , इस दौरान यहां रहने वाले एक मां बेटे ने एक साथ पीएससी की परीक्षा भी दी और इस परीक्षा में एक साथ सफलता भी हासिल की है ।

इन दोनों मां-बेटे ने यह साबित कर दिया है कि पढ़ाई करके सफलता हासिल करने के लिए किसी प्रकार की तय उम्र नहीं होती है और उन्होंने एक साथ पढ़ाई करके सफलता हासिल करके अब सरकारी नौकरी की और अग्रसर हो रही है।

केरला के रहने वाले मां बेटे ने साथ में हासिल की पीसीएस की परीक्षा में सफलता

जानकारी के लिए आप सभी को बता दें कि केरला के मल्लपुरम के रहने वाले 42 वर्षीय बिंदु और इनके 24 वर्षीय बेटे विवेक ने हाल ही में एक साथ लोक सभा आयोग की पीसीएस की परीक्षा दी थी और इन्होंने अपनी मेहनत और लगन के बल पर एक साथ इस परीक्षा में सफलता हासिल की है।

जानकारी के लिए आप सभी को बता दें कि 42 वर्ष से बिंदु ने पीसीएस की परीक्षा लास्ट ग्रेड सर्वेंट (LDS) के तहत दी थी जिसमें उन्होंने 92वीं रैंक हासिल की थी । और इस प्रकार ही बिंदु के बेटे 24 वर्षीय विवेक ने अवर श्रेणी लिपिक (LDC) के तहत पीसीएस की परीक्षा दी थी और इसमें 38 वी रैंक हासिल की थी ।

इस सफलता भरी कहानी की सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि विवेक जब दसवीं की पढ़ाई कर रहे थे उस समय उन्होंने अपनी मां को आगे पढ़ाई करने के लिए प्रोत्साहित किया था , और इस प्रकार मां ने बेटे के प्रोत्साहन के कारण लोकसभा की पीसीएस की परीक्षा की तैयारी शुरू कर दी थी ।

परंतु बिंदु अपने पहले प्रयास में सफलता को हासिल नहीं कर पाई इस दौरान उन्होंने हार नहीं मानी और लगातार सरकारी परीक्षा में सफलता हासिल करने के लिए मेहनत जारी रखी और इस दौरान उनके बेटे ने भी उनका पूरा साथ दिया ।

इस प्रकार ही मां बेटे ने लोकसभा की पीसीएस की परीक्षा में सफलता हासिल करने की उम्मीद लिए एक कोचिंग सेंटर में अपना दाखिला करवाया , और इस दौरान मां बेटे की जोड़ी ने एक साथ मिलकर पीसीएस की परीक्षा में सफलता हासिल करने के लिए तैयारी शुरू कर दी।

जानकारी के लिए आप सभी को बता दें कि बिंदु ने अपने पहले 3 प्रयासों में पीसीएस की परीक्षा में सफलता हासिल की परंतु लगातार मेहनत करके इन्होंने अपने चौथे प्रयास में पीसीएस की परीक्षा में 92 वी रैंक हासिल की है।

आंगनबाड़ी की एक टीचर है बिंदु

जानकारी के लिए आप सभी को बता दें कि केरला के मलप्पुरम की रहने वाली बिंदु पेशे से एक आंगनबाड़ी की टीचर है और लगभग कई समय से बच्चों को पढ़ाते आ रही हैं ।

बातचीत के दौरान बिंदु बताती है कि वह और उनका बेटा कभी एक साथ बैठकर पढ़ाई नहीं करते थे क्योंकि उनके बेटे को अकेले में पढ़ाई करना अच्छा लगता था परंतु कई बार वह कई विषय में एक साथ बैठकर चर्चा अवश्य करते थे , और इस कारणवश दोनों की आपसी समझ काफी अधिक विकसित हो पाती थी ।

बिंदु अपनी आंगनबाड़ी की ड्यूटी खत्म होने के बाद परीक्षा की तैयारी करती थी इसके लिए उनके दोस्तों और उनके बेटे ने उन्हें काफी अधिक प्रोत्साहन किया था । जिसके बाद बिंदू ने 42 वर्ष की उम्र में पीसीएस की परीक्षा में सफलता हासिल की है और मां बेटे की यह जोड़ी अब एक साथ सरकारी नौकरी ज्वाइन करेगी ।

 

लेखिका : अमरजीत कौर

यह भी पढ़ें :

साल भर कोमा में रह चुका है छात्र पिछला सब कुछ भूल गया था फिर भी अपनी मेहनत के बल पर 12वीं की परीक्षा में हासिल के 92.4 % अंक