हिन्दीफ़ीड्स

हिन्दीफ़ीड्स

शहनाज हुसैन की कम उम्र में मां बनने के बाद उधार के पैसे से 650 करोड़ का बिजनेस खड़ा करने की कहानी

शहनाज हुसैन की कम उम्र में मां बनने के बाद उधार के पैसे से 650 करोड़ का बिजनेस खड़ा करने की कहानी

शहनाज हुसैन की कम उम्र में मां बनने के बाद उधार के पैसे से 650 करोड़ का बिजनेस खड़ा करने की कहानी

कहा जाता है कि “जैसा देश वैसा भेष”, यह कहावत काफी लंबे समय से सुनी जा रही है और आज के समय में भी यह बहुत ज्यादा प्रसांगिक साबित हो रही है।

हम सभी जानते हैं कि प्रकृति द्वारा बनाई गई सबसे खूबसूरत कृति इंसान है। इंसान की इस खूबसूरती को हम दो भागों में विभाजित करते है – एक आंतरिक सुंदरता जो चिर स्थाई होती है जो कि उसके सकारात्मक व्यवहार द्वारा प्रदर्शित होती रहती है।

वहीं दूसरी सुंदरता इंसान शरीर की सुंदरता होती है जो कि वक्त के साथ बदलती रहती है। आज की दुनिया में आंतरिक सुंदरता बहुत मायने रखने लगी है।

इसमें कोई संदेह नहीं है कि हर कोई अपनी आंतरिक सुंदरता के प्रति सजग हो गया है और इसे निखारने में लगा रहता है।

वहीं बाहरी सुंदरता को भी निखारने के लिए सौंदर्य प्रसाधनों का इस्तेमाल करता है क्योंकि हर कोई आकर्षक व्यक्तित्व का मालिक होने की कामना करता है।

शारीरिक सुंदरता से ही व्यक्ति को आकर्षक बनने के साथ ही आत्मविश्वास को बढ़ाने में भी मदद मिलती है।

लेकिन कई बार कुछ ऐसे रासायनिक तत्वों का इस्तेमाल कर दिया जाता है जो कि उनके लिए काफी नुकसान दे होती है।

इसलिए आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों का प्रयोग ही बाहरी सुंदरता के लिए अच्छा माना जाता है। शारीरिक सौंदर्य को निखारने के लिए प्राकृतिक जड़ी बूटियों का इस्तेमाल करती है मशहूर ब्यूटी एक्सपर्ट Shahnaz Husain

आज सौंदर्य विशेषज्ञों में शायद ही कोई हो जो इनके नाम से परिचित न हो। Shahnaz Husain अपने स्पष्ट विचारों और आकर्षक व्यक्तित्व के लिए जानी जाती हैं।

उन्होंने अपनी मेहनत और लगन के दम पर Herbal Products ( हर्बल उत्पादों ) में तेजी से बढ़ते फैशन की दुनिया में अपनी एक अलग ही पहचान बना ली है।

आज Shahnaz Husain की कंपनी हर्बल प्रोडक्ट बनाने वाली सबसे बड़ी कंपनियों में से एक है। लेकिन उन्होंने यह सफलता कोई रातों-रात नही हासिल की है बल्कि इसके लिए एक लंबा सफर तय किया है।

Shahnaz Husain का जन्म 1940 में भारत के पूर्व मुख्य न्यायाधीश एन यू बेग के घर में हुआ था। शहनाज को बचपन से ही सृजनात्मक कार्यों में रुचि थी।

वक्त के साथ शहनाज ब्यूटी एक्सपर्ट बनने के सपने सजाने लगी। उस समय की सामाजिक रस्मो रिवाज को प्राथमिकता देते हुए 14 साल की उम्र में ही उनकी सगाई कर दी गई थी और 16 साल की छोटी सी उम्र में ही उनका विवाह कर दिया गया।

नए परिवेश में खुद को ढाल ही रही थी कि इसी बीच उनके ऊपर मां बनने की जिम्मेदारी भी आ पड़ी। कम उम्र में उन्होंने पत्नी, बहू और मां की भूमिका निभाई।

इन तमाम जिम्मेदारियों को पूरा करते हुए वह किसी तरह अपने सपने के लिए वक्त निकालती थी। शहनाज ब्यूटीशियन बनने का सपना संजोती थी ।

और जब उन्होंने अपने शोहर से अपने सपने के बारे में बताया तब उनकी शिद्दत को देखकर उनके पति और पिता ने उनका साथ दिया।

shahnaz Husain Product
shahnaz Husain Product

कुछ समय के लिए उनके पति इराक में नौकरी करने के लिए चले गए। इसी बीच Shahnaz Husain के पास सौंदर्य विशेषज्ञ बनने का मौका मिला और वे इसके लिए लंदन जाकर सौंदर्य संसाधनों के उपयोग के बारे में प्रशिक्षण ली।

वह आयुर्वेदिक और शुद्धता से बने उत्पादों के लिए लगभग 10 साल तक लंदन, पेरिस, न्यूयॉर्क, कोपनहेगन जैसे पार्लर में प्राकृतिक सौंदर्य का प्रशिक्षण लेती रही।

फिर 1977 में भारत वापस लौट आई और अपने पिता से ₹36,000 उधार लेकर दिल्ली में अपने घर में ही Shahnaz Husain Herbal की शुरुआत की।

शुरू में ही इनके सौंदर्य प्रसाधनों को जबरदस्त समर्थन मिलने लगा। शुरू में वह त्वचा संबंधी रोगों के विषय का उपचार करती थी ।

लेकिन बढ़ती मांग के चलते वह जल्द ही मुंहासे, छाई, त्वचा में नमी की कमी, बालों के गिरने के रोकने के लिए विभिन्न उत्पाद बाजार में ला दी।

समय की सात Shahnaz Husain अपने परिवार की जिम्मेदारी निभाते हुए अपने क्षेत्र में सफलता की सीढ़ियां चढ़ने लगी।

काबिलियत के दम पर ही उन्हें सौंदर्य विशेषज्ञों के वैश्विक सम्मेलन में भारत का प्रतिनिधित्व करने का मौका मिला तो वह इसका लाभ उठाते हुए अपने विचारों से वहां पर उपस्थित सभी लोगों को प्रभावित की ।

और अपनी वाकपटुता की वजह से ही सभा के सभी सदस्यों ने एक दिन के लिए उन्हें सम्मेलन की अध्यक्षता करने का मौका दिया।

shahnaz Husain Product
shahnaz Husain Product

इस अवसर का पूरा लाभ लेते हुए Shahnaz Husain ने आयुर्वेद की ओर लोगों का ध्यान आकर्षित करने का प्रयास किया और वह इसमें सफल भी रही।

इसी के फलस्वरूप राजीव गांधी सद्भावना पुरस्कार और फीमेल ऑफ द डिकेड अवार्ड से उन्हें 1983 में सम्मानित किया गया।

यह भी पढ़ें :एक सामान्य गृहिणी ने 42 साल की उम्र में की करोबार की शुरुआत आज है करोड़ों का टर्नओवर

1985 में Shahnaz Husain को इमेज इंडिया और विक्की आउटस्टैंडिंग वूमेन ऑफ द ईयर अवार्ड से 1986 में सम्मानित किया गया।

90 के दशक से Shahnaz Husain के उत्पादों की मांग तेजी से बढ़ने लगी और वह देश और दुनिया में अपने बड़े-बड़े स्टोर खोलने लगी। लंदन और दुबई के स्टोर्स में भी शहनाज हुसैन के सुंदर प्रसाधन अपनी जगह बनाने लगे।

आज शहनाज हुसैन की कंपनी शहनाज हर्बल समूह द्वारा 350 से भी अधिक उत्पादन किए जाते हैं, जिसके 30,000 से भी अधिक आउटलेट्स उपलब्ध हैं। उनकी कंपनी का सालाना टर्नओवर 650 करोड़ से भी अधिक है।

Shahnaz Husain की कहानी से हमें यह प्रेरणा मिलती है कि यदि हम अपने सपनों को पूरा करना चाहते हैं तब उसके लिए हमें हर मौके का भरपूर लाभ उठाना चाहिए।