NASA के पूर्व इंजीनियर भारत लौट कर तैयार कर रहे हैं उबर खाबर सड़कों के लिए थ्री व्हीलर EV

आज हम बात करने वाले हैं NASA के पूर्व इंजीनियर अमिताभ सरन के बारे में , नासा से वापस लौटने के बाद इंजीनियर अमिताभ सरन ने भारत में एक इलेक्ट्रिकल व्हीकल टेक्नोलॉजी सॉल्यूशन कंपनी Altigreen लॉन्च की है।

इस कंपनी के तहत भारत में सड़कों के हिसाब से नई तकनीकी और फीचर्स के साथ कमर्शियल वाहनों को तैयार किया जाता है। हर साल भारत में वायु प्रदूषण के कारण हर साल करीब तीन से चार लाख लोगों की मृत्यु हो जाती है, अन्यथा वायु प्रदूषण का एक मुख्य कारण गाड़ियों से निकलने वाला धुआं है।

नासा के इंजीनियर अमिताभ सरन ने भारत वापस लौटने के बाद इस गंभीर समस्या को देखते हुए ” अल्टिग्रीन Altigreen ” को लांच करने का फैसला लिया था इस स्टार्टअप के तहत वह सड़कों के हिसाब से नई तकनीक और फीचर्स के साथ वाहनों को तैयार करते हैं।

जानकारी के लिए आपको बता दें  कि Altigreen कंपनी का नया प्रोडक्ट “अल्टिग्रीन neEV (Altigreen neEV)”, एक बार चार्ज करने के बाद कम से कम 150 किलोमीटर की यात्रा कर सकता है और इसके साथ ही साथ अधिक भार भी उठा सकता है।

इस प्रकार कई लोग होते हैं जिन्हें लगता है कि EV वाहनों का इस्तेमाल करने से उनकी बैटरी एक महत्वपूर्ण समस्या का काम कर सकती है, इस दौरान अल्टिग्रीन कंपनी के नए लांच को अच्छे से इस्तेमाल कर सकते है ।

यह है “फिट एंड फॉरगेट किट”

यह कंपनी एक “फिट एंड फॉरगेट किट” भी देती है, दरअसल इसके तहत किसी को भी नए वाहन खरीदने की जरूरत नहीं है अन्यथा इस किट की मदद से आपके पास मौजूदा कारों को हाइब्रिड मॉडल में बदला जा सकता है।

इसका एक अच्छा उदाहरण यह होगा कि अगर आपके पास कार है और आप इलेक्ट्रॉनिक गाड़ी नहीं लेना चाहते हैं तो अन्यथा अपनी पुरानी गाड़ी को नया बनाना चाहते हैं तो इस समस्या का समाधान भी स्टार्टअप के पास  है।

इस स्टार्टअप का मकसद पर्यावरण में होने वाले वायु प्रदूषण को कम करना है अन्यथा इसका मुख्य कारण गाड़ियों से निकलने वाला धुंआ है इसलिए इन्होंने EV वाहनों को तैयार किया है ताकि पेट्रोल डीजल से चलने वाली गाड़ियों का चलन बंद हो पाए और पेट्रोल डीजल वाली गाड़ियों से निकलने वाले धुएं से पर्यावरण को हानि पहुंचती है वह कम हो सके।

अमिताभ सरन स्टार्टअप के तहत एक EV सुपर पावर भी तैयार करना चाहते हैं ना केवल थ्री व्हीलर और अन्य वाहनों में भी इवी का इस्तेमाल करके एक नए अविष्कार करने में जोर दे रहे हैं।

 

लेखिका : अमरजीत कौर

यह भी पढ़ें :

मैत्री जरीवाला की कहानी जो बन गई है आज ” रीसाइक्लिंग हीरो” मंदिर में चढ़े सूखे फूलों से कमा रही है लाखों

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *