नवम्बर 30, 2022

Motivational & Success Stories in Hindi- Best Real Life Inspirational Stories

Find the best motivational stories in hindi, inspirational story in hindi for success and more at hindifeeds.com

Ashvatha super foods ki safalta ki kahani

50 वर्षीय महिला उद्यमी की कहानी जिनका वैलनेस प्रोडक्ट धूम मचा रहा है

आज हम बात करने वाले अर्चना सोनी की जिन्होंने 25 वर्ष तक अपना पूरा जीवन अपने परिवार और बच्चों को समर्पित कर दिया था , एक आयुर्वेदिक और एक हेल्थी लाइफ को मानने वाली महिला है ।

उन्होंने अपने परिवार और दोस्तों को स्वस्थ रखने के लिए कई प्रकार के आयुर्वेदिक और जड़ी बूटियों का मिश्रण कर सुपरफूड्स तैयार किए हैं ।

अर्चना सोनी दिल्ली में पली बढ़ी है और उन्होंने गणित में बीए की है । शुरुआत में वह अपने पिता के साथ पिता के बिजनेस में हाथ बताती थी परंतु कुछ समय बाद उनका विवाह एक डॉक्टर पति से हो गया और वह पानीपत चली गई ।

बातचित के दौरान अर्चना कहती है कि मेरे मोटिवेशन का जरिया मेरा परिवार है मेरे परिवार को स्वस्थ रखना और बढ़िया पोषक तत्व देना था, मेरे बच्चे बहुत सारी चीजें नहीं खाते थे ।

इस दौरान मुझे या एहसास हुआ कि मुझे उनके स्वास्थ्य के लिए उनके स्वाद के साथ समझौता नहीं करना चाहिए अन्यथा वह उसे अस्वीकार कर देंगे ।

इस कारण मैंने कई अलग-अलग फूड्स को मिक्स कर कर एक सुपरफूड्स आहार तैयार किया, और इन फूड्स को रोजाना इस्तेमाल करना काफी आसान था क्योंकि इनका स्वाद भी काफी अच्छा था ।

जुनून को बदला आंत्रप्रेन्योरशिप में

अर्चना कहती है कि मैंने इन स्वास्थ्य फूड  को शुरुआत में अपने परिवार और दोस्तों के लिए मुफ्त में तैयार किया था। वह आगे बताती है कि जब अधिक लोग मेरे पास इसकी अधिक मांग लेकर आने लगे तो मेरा बेटा जो पेसे से एक डॉक्टर है उसने मुझे यह सुझाव दिया कि मैं अपने इस सुपरफूड्स को पूरी दुनिया के सामने उचित तरीके से सामने पेश करूं ।

शायद मैं इसके लिए तैयार थी और हमेशा से ऐसे मौके का इंतजार कर रही थी परंतु मेरे बेटे के समर्थन ने मुझे एक आंत्रप्रेन्योरशिप के लिए पहला कदम बढ़ने में अहम् योगदान दिया।

अर्चना ने वर्ष 2020 में अपने बिजनेस को Archna Foods नाम से रजिस्टर किया है कि और बिना किसी भी मार्केट रणनीति कि इन्होंने केवल दो ही महीने में 1.5 लाख का मुनाफा कमा लिया।

वह आगे बताती है कि केवल दो ही महीने में लोगों से इस प्रकार की प्रतिक्रिया मिली इस तरह मेरा उत्साह और भी बढ़ गया और मेरी प्रगति को देख मेरा बेटा उज्ज्वल इसका को फाउंडर बन गया ।

फिर हम लोगों ने मिलकर वर्ष 2020 दिसंबर में Ashvatha ब्रांड नाम से अपने उत्पादकों को फिर से मार्केट में रिलीज किया और कई बाजारों में अपने उत्पादों को सूचीबद्ध किया और खुद का अपना एक D2C स्टोर तैयार किया । वर्ष 2021 तक हमारी बिक्री काफी अधिक हो गई थी।

वह बताती है कि जिस प्रकार हमने मार्केट में अपने उत्पादों को रिलीज किया उस प्रकार कई कर्मचारियों के भी आवश्यकता थी और शुरुआत की हमारी रणनीति यह थी कि कर्मचारियों की संख्या को कम से कम रखेंगे , दोनों को फाउंडर्स को इस बात का एहसास था कि लंबी अवधि तक टिके रहने के लिए पूंजी की अवधि को जमा रखना काफी आवश्यक है।

अर्चना कहती है कि शुरुआत में हमारे पास एक मैन्युफैक्चरिंग सेटअप नहीं था और इसलिए हमने अपने ड्राइंग रूम और डाइनिंग रूम को मैन्युफैक्चरिंग सेट अप में बदल दिया था , वह कहती है कि हमारे पास कमर्शियल ग्राइंडर मशीन नहीं थी इस दौरान हमने छोटे मिक्सर ग्राइंडर का ही इस्तेमाल किया था, वह कहते हैं कि हमारे ब्रांड Ashvatha के फूड मेकर्स , कस्टमर सपोर्ट, सोशल मीडिया मैनेजर , मार्केटर सब कुछ मैं और मेरा बेटा ही था ।

अर्चना के ब्रांड Ashvatha ने किस प्रकार मार्केट में लोकप्रियता हासिल करनी शुरू कर दी उसी प्रकार दोनों को फाउंडर ने महिलाओं को रोजगार देना और ट्रेनिंग देने का फैसला किया। महिलाएं आर्थिक रूप से स्वतंत्र हो सके ।

फिलहाल वह 4 महिलाओं को रोजगार देकर मैन्युफैक्चरिंग में कार्य करती है। इसके साथ ही साथ खुद की मार्केटिंग और कस्टमर सपोर्ट की टीम में भी अधिक से अधिक महिलाएं शामिल है ।

आयुर्बेद के सदियों पुराने ज्ञान पर आधारित है Ashvatha के प्रोडक्ट्स

Ashvatha ब्रांड के को फाउंडर्स का मुख्य उद्देश्य पुराने आयुर्वेदिक ज्ञान का इस्तेमाल करके आयुर्वेदिक और प्राकृतिक स्वास्थ्य फूड उपलबध कराना है।

वह कहती है कि हम अपने उत्पादों के लिए कच्चा माल केरल और मेघालय के किसानों से लेते हैं क्योंकि हरियाणा के पानीपत इतनी अधिक फैसिलिटी उपलब्ध नहीं है ।

वह कहती है कि महिला कर्मचारी द्वारा प्रोसेसिंग किया जाता है और मेरी रेसिपी द्वारा सारी उत्पादों को तैयार किया जाता है ।

आज Ashvatha ब्रांड अपने कई उत्पादों को पेश करता है , इसमें मिल्क बूस्टर, अश्वथा चाय मसाला और अश्वथा हल्दी लट्टे, अश्वथा डिटॉक्स काढ़ा एवं अश्वथा हर्बल सब्जी मसाला शामिल हैं।

कहती है कि मेरा बेटा उज्जवल सोनी ब्रांड की मार्केटिंग और तकनीकी पहलू का पूरी तरह से ध्यान रखता है। आज अर्चना का ब्रांड काफी लोकप्रिय हो रहा है और अधिक से अधिक इसकी बिक्री भी हो रही है आज महीने का उनका मुनाफा 2 लाख तक पहुंच जाता है और आने वाले दिनों में वह 80 लाख से अधिक मुनाफा कमाना चाहती है ।

अर्चना बताती है कि करोना महामारी के समय में जब सभी लोग अपनी इम्यूनिटी को बूस्ट करने के लिए हेल्दी खाना खाना पसंद कर रहे थे, उस वक्त जब हमने इस ब्रांड की शुरुआत की तो हेल्दी होने के कारण और आयुर्वेदिक तत्वों का इस्तेमाल करने के कारण हमारे यह प्रोडक्ट की लोकप्रियता काफी अधिक बढ़ने लगी ।

अंत में अर्चना कहती हैं कि मैंने शुरू से ही स्वास्थ्य और हेल्दी फूड्स अपने परिवार और दोस्तों के लिए तैयार किए थे परंतु कभी भी अंदाजा नहीं था कि यह मौका मुझे इतना बड़ा बिजनेस बना देगा परंतु अगर मेरे बेटे मेरे काम को सहाराना नहीं देता तो आज मैं यहां तक नहीं पहुंच पाती ।

आयुर्वेदिक मिश्रण से तैयार हुआ सुपरफूड्स लोगों को बेहद पसंद आ रहा है और कई लोग मेरे इस काम की सहारना भी करते हैं।

लेखिका : अमरजीत कौर

यह भी पढ़ें :

आइए जानते हैं एक मजदूर की बेटी ने किस प्रकार तय किया सरकारी स्कूल से इटली में पढ़ने तक का सफर