26.5 C
Delhi
Wednesday, March 3, 2021

एक carpenter से Wikipedia पर एडिटर बनने वाले राजू जांगिड़ जी की प्रेरणादायक कहानी

आज Wikipedia दुनिया का सबसे बड़ा वॉलेंटियर-मेड ऑनलाइन इनसाइक्लोपीडिया बन गया है। इस पर लगभग 55 मिलियन आर्टिकल है।

इसके साथ ही यह इंटरनेट पर देश में सबसे अधिक 17 वीं बार देखी जाने वाली वेबसाइट बन गई है। बहुत सारे लोगों को यह बात शायद नही मालूम है कि Wikipedia सिर्फ इंग्लिश में ही नही मौजूद है बल्कि हिंदी इंग्लिश के अलावा यह आक अलग-अलग 300 भाषाओं में आज उपलब्ध है।

आज दुनिया में करीब 34.1 करोड़ लोग हिंदी भाषा बोलने वाले हैं। लेकिन इसके बावजूद Wikipedia पर अब तक हिंदी भाषा में केवल 1.4 लाख पेज ही उपलब्ध है।

Wikipedia दुनिया का सबसे बड़ा इनसाइक्लोपीडिया
wikipedia दुनिया का सबसे बड़ा इनसाइक्लोपीडिया

मतलब कि हिंदी भाषा के आर्टिकल की संख्या हिंदी भाषा बोलने वाले लोगों की तुलना में बेहद कम है। यह बात राजस्थान के जोधपुर के Raju Jangid को थोड़ा लग गई।

तब उन्होंने Wikipedia पर एडिटर बनने का फैसला किया लेकिन यह इतना आसान काम नहीं था।

पैसे के अभाव से बने carpenter  :-

Raju Jangid राजस्थान के जोधपुर के गांव के रहने वाले साधारण बुजुर्ग किसान के बेटे हैं। उनकी मां एक ग्रहणी है। राजू एक मध्यमवर्गीय परिवार से संबंध रखते हैं। राजू 8 बहन- भाई है।

उनकी पांच बड़ी बहनों और दो भाई हैं। राजू ने दसवीं तक की पढ़ाई गांव में करने के बाद परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक न होने की वजह से अपनी पढ़ाई बीच में ही छोड़ दी। बचपन में वह क्रिकेटर बनना चाहते थे।

लेकिन घर की आर्थिक हालात ठीक न होने के कारण वह अपने सपने को पूरा नही कर पाए। घर की आर्थिक मदद करने के लिए राजू ने पुणे में carpenter की नौकरी करने का विचार करके पुणे चले गए,  साथ ही वह Wikipedia पर हिंदी पर जो co editor के रूप में करने का काम करने लगे।

Raju Jangid, carpenter की नौकरी के साथ Wikipedia पर हिंदी पेज को एडिट करते थे, साथ ही अपनी आगे की पढ़ाई करना भी शुरू कर दिये। 12वीं पास करने के बाद उन्होंने बीए भी कर लिया।

इस तरह हुई शुरुआत :-

Raju Jangid अपने Wikipedia से जुड़ाव के बारे में बताते हैं कि पहली बार उन्होंने बॉलीवुड अभिनेता मिथुन चक्रवर्ती के बारे में गूगल पर सर्च किया तब पहला लिंक Wikipedia का मिला।

इसके बाद जब भी किसी भी व्यक्ति या स्थानीय वस्तु के बारे में सर्च करते तो उनकी लगभग सभी सर्च Wikipedia पर ही खत्म होती थी। यहीं से उनकी दिलचस्पी बढ़ने लगी।

इसके बाद उन्होंने Wikipedia के इतिहास पेज, क्रिएटर, कंट्रीब्यूटर्स एडिटर आदि के बारे में धीरे-धीरे महत्वपूर्ण जानकारियां जुटा ली।

Wikipedia पर एडिटर बनने की चुनौती :-

Raju Jangid बताते हैं कि जब उन्होंने Wikipedia पर content writing करने की शुरुआत की थी। तब वह सिर्फ दसवीं पास थी और पुणे में बतौर carpenter  नौकरी करते थे। राजू भले ही carpenter  थे। लेकिन Wikipedia में उनकी पहुंची हो गई थी।

उन्होंने इंटरनेट पर अपने गांव के बारे में जानकारी साझा करने के लिए हिंदी में लिखने का निर्णय किया। लेकिन तब उनके सामने दो प्रमुख समस्याएं थी पहले कि उस समय Raju Jangid के पास कोई कंप्यूटर या लैपटॉप उपलब्ध नही था।

उनके पास कीपैड वाला फोन था जिससे वे रिसर्च करते करते और टाइप करते थे। इस तरह काम कठिन काम हो जाता था और इसमें काफी समय लगता था।

दूसरी समस्या थी उनके पास जानकारी का समर्थन करने के लिए कोई रिफरेंस नही था। वह जो आर्टिकल अपने गांव के बारे में लिखते थे Wikipedia उन्हें हटा दिया जाता था। काफी मशक्कत के बावजूद Raju Jangid ने कभी भी हार नहीं मानी और लगातार कोशिश करत रहे।

उन्होंने अपनी आर्टिकल को अपलोड करने के लिए 2 साल तक प्रयास किया। लेकिन हर बार असफल रहे इस प्रक्रिया में दो तीन बार उन्हें एडमिनिस्ट्रेटर द्वारा ब्लॉक भी कर दिया गया था।

इसी बीच Raju Jangidको यह जानकारी मिल गई कि आर्टिकल को निष्पक्ष रखने के लिए Quotes और रिफरेंस की भी जरूरत होती है इसके बाद वह उन्हें भी अपलोड करने लगे।

धीरे-धीरे बहुत सारी बातें सीख ली। फिर 2015 में राजू ने एक नया अकाउंट बनाया और Wikipedia सभी कम्युनिटी गाइडलाइन का पालन करते हुए हिंदी में लिखना शुरू किया, इसके बाद उन्हें फिर से पीछे देखने की जरूरत नहीं पड़ी।

राजू की इक्कीपीडिया पर उपलब्धि :-

22 वर्षीय Raju Jangid साल 2015 से Wikipedia पर एक एडिटर के रूप में आर्टिकल लिख रहे हैं। अब तक उन्होंने हिंदी में लगभग 1900 पेज क्रिएट कर चुके हैं और 57 हजार से भी ज्यादा पेज को वह एडिट कर चुके हैं।

अपने क्रिकेट के जुनून को पूरा करते हुए उन्होंने Wikiroject  के तहत अब तक 650 से भी अधिक पेज क्रिएट किए हैं।

यह भी पढ़ें :- 20 मिलीयन फॉलोअर्स के साथ इंटरनेट के सुपरस्टार youtuber भुवन बाम की सफलता की कहानी

जिसमें उन्होंने क्रिकेट खिलाड़ियों और क्रिकेट से जुड़ी तमाम जानकारियां लिखी है। भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को बताते हैं और उन्हें माही का हेलीकॉप्टर शॉट बहुत ज्यादा पसंद है।

राजू ने Wikipedia पर Wiki100 women डे चैलेंज को भी पूरा किया और हर दिन एक महिला का टॉपिक बनाते हुए उन्होंने 100 दिन में 100 महिलाओं का पेज बना लिया।

Raju Jangid

Raju Jangidइस तरह से वे जोधपुर के सबसे ज्यादा Wikipedia एडिट करने वाले व्यक्ति बन गए हैं । सबसे दिलचस्प बात यह है किने जितने भी पेज एडिट किए हैं उनमें से 8000 से भी ज्यादा पेज राजू ने अपने मोबाइल फोन से एडिट किया है।

जिसमें 3000 से भी ज्यादा पेज अपने पुराने कीपैड वाले फोन से एडिट किया था। यह बात Wikipedia और हिंदी भाषा के प्रति उनके लगाओ और जुनून के बारे में बताता है।

मेहनत से मिल गई पहचान :-

साल 2016 में ही पुणे में Raju Jangid को एक हिंदी विकीपीडिया कॉन्फ्रेंस में पार्टिसिपेट करने का अवसर मिला। इसमें भाग लेने के बाद राजू के लिए बहुत सारी चीजें बदल गई।

Raju Jangid बताते हैं दो कमेटी मेंबर को मेरी खराब आर्थिक स्थिति के बारे में पता चला तब उन्होंने वहां पर मौजूद अन्य दूसरे मेंबर से इस बारे में चर्चा की।

उन्होंने Raju Jangid को एक लैपटॉप इंटरनेट कनेक्शन दिलाने के लिए फंड के लिए कैंपेन चलाया। 6 महीने बाद ये दोनों चीजे राजू को मिल गई।

2017 में Raju Jangid अपने शिक्षा की दिशा में आगे बढ़ने लगे और अपनी carpenter  की नौकरी छोड़ दी और अपना कैरियर बतौर कंटेंट राइटर बना लिया। आज राजू Wikipedia पर editor से reviewer बन चुके हैं।

प्रेरणा :-

राजू की कहानी यह साबित करती है लगातार दृढ़  संकल्प के साथ किए गए प्रयासों से चाहे कितनी तरह की ही चुनोतियाँ क्यो न हो, हर बाधाओं को दूर किया जा सकता है। Raju Jangid को हिंदी भाषा से प्रेम था और उनके जुनून के बदौलत वह इसमें आगे बढ़ते गए और कामयाबी पाई।

Raju Jangid की कहानी से हमें एक बहुत बड़ी सीख मिलती है। राजू की कहानी से यह सीख मिलती है कि हमारी जिंदगी में मुश्किलें चाहे कितनी भी क्यों न हो, लेकिन अगर अपने काम के प्रति लगातार मेहनत करेंगे तो कामयाबी के रास्ते खुद ब खुद धीरे-धीरे बन जाएंगे।

Related Articles

शहनाज हुसैन की कम उम्र में मां बनने के बाद उधार के पैसे से 650 करोड़ का बिजनेस खड़ा करने की कहानी

कहा जाता है कि "जैसा देश वैसा भेष", यह कहावत काफी लंबे समय से सुनी जा रही है और आज के समय में भी...

कभी दिहाड़ी मजदूरी करने वाली यह आदिवासी महिला अब है मशरूप कि खेती की ट्रेनर

उत्तरी दिनाजपुर, पश्चिम बंगाल की रहने वाली है Susheela Tudu। सुशीला के पास बिकल्प था की वो स्थानीय चाय बागानों में काम एक दिहाड़ी...

अपना घर गिरवी रखकर शुरू किया था डोसा बेचने का बिजनेस, यह NRI अमेरिका और कनाडा जैसे देशों में बेच रहा डोसा

"पैसा महज एक कागज का टुकड़ा होता है, लेकिन इस कागज के टुकड़े में बहुत ताकत होती है। इस कागज़ के टुकड़े यानी कि...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

21,607FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

शहनाज हुसैन की कम उम्र में मां बनने के बाद उधार के पैसे से 650 करोड़ का बिजनेस खड़ा करने की कहानी

कहा जाता है कि "जैसा देश वैसा भेष", यह कहावत काफी लंबे समय से सुनी जा रही है और आज के समय में भी...

कभी दिहाड़ी मजदूरी करने वाली यह आदिवासी महिला अब है मशरूप कि खेती की ट्रेनर

उत्तरी दिनाजपुर, पश्चिम बंगाल की रहने वाली है Susheela Tudu। सुशीला के पास बिकल्प था की वो स्थानीय चाय बागानों में काम एक दिहाड़ी...

अपना घर गिरवी रखकर शुरू किया था डोसा बेचने का बिजनेस, यह NRI अमेरिका और कनाडा जैसे देशों में बेच रहा डोसा

"पैसा महज एक कागज का टुकड़ा होता है, लेकिन इस कागज के टुकड़े में बहुत ताकत होती है। इस कागज़ के टुकड़े यानी कि...

बिहार का यह लड़का एप्पल, गूगल जैसी दिग्गज कंपनियों को अपने आविष्कार के जरिए मात दे रहा

कहा जाता है कि सपनों का पीछा करना एक कठिन काम है लेकिन कुछ भी काम न करना सबसे बड़ी मूर्खता होती है। बहुत सारे...

महाराष्ट्र का एक किसान ने सफेद चंदन और काली हल्दी की खेती करके बनाई अपनी पहचान

एक वक्त था जब खेती को अनपढ़ लोगों के लिए रोजगार का जरिया समझा जाता था लेकिन आज के दौर में पढ़े लिखे लोग...