September 21, 2021

Hindi News: Motivational & Success Stories in Hindi- Best Real Life Inspirational Stories

Find the best motivational stories in hindi, inspirational story in hindi for success and more at hindifeeds.com

यूपीएससी परीक्षा में 5 बार असफल होने के बाद फरमान अहमद खान ने छठे अटेम्प्ट में सफल हो कर ऐसे बने IAS

यूपीएससी परीक्षा में 5 बार असफल होने के बाद फरमान अहमद खान ने छठे अटेम्प्ट में सफल हो कर ऐसे बने IAS

यूपीएससी परीक्षा में 5 बार असफल होने के बाद फरमान अहमद खान ने छठे अटेम्प्ट में सफल हो कर ऐसे बने IAS

Success story of IAS Farman Ahmad Khan :-

यूपीएससी परीक्षा देश की सबसे मुश्किल परीक्षा में से एक मानी जाती है। इस परीक्षा में हर साल लाखों की संख्या में अभ्यार्थी बैठते हैं। लाखों उम्मीदवारों का सपना होता है यूपीएससी परीक्षा को पास करना।

लेकिन कुछ चुनिंदा लोगों को ही इस परीक्षा में सफलता प्राप्त होती है। हालांकि जो लोग परीक्षा को पास करने के लिए पूरे मन से ठान लेते हैं वह हर मुश्किल का सामना डटकर करते हैं और अंततः सफल होकर दम लेते हैं।

आज की कहानी एक ऐसे शख्स की है जिन्होंने अपने पांच अटेंप्ट में असफलता का सामना किया लेकिन इसके बावजूद उन्होंने हार नहीं मानी और अपनी तैयारी में जुटे रहे और खुद को बेहतर करते रहे।

नतीजा यह हुआ कि उनके छठे प्रयास में उन्हें सफलता प्राप्त हो गई और उनका आईएएस बनने का सपना पूरा हो गया। जी हां हम बात कर रहे हैं फरमार अहमद खान की।

फरमान अहमद खान ने यूपीएससी की परीक्षा में 5 बार असफलता देखी। लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी। उन्होंने अपना छठवां अटेंड दिया और इस बार वह परीक्षा में सफल हो गए।

फरमान अहमद ने अपने दृढ़ संकल्प और कड़ी मेहनत के दम पर यूपीएससी परीक्षा को अपने छठे अर्जेंट में क्लियर किया। आखिरकार 7 सालों की मेहनत रंग लाई और फरमान को यूपीएससी परीक्षा में सफलता प्राप्त हुई। 7 साल एक लंबा समय होता है उन्होंने इतने लंबे समय तक अपना धैर्य नहीं खोया और हिम्मत बनाए रखी।

फरमान अहमद खान यूपीएससी की परीक्षा पास करने वाले लाखों अभ्यार्थियों के लिए एक प्रेरणा हो सकते हैं। बता दें कि फरमान अहमद खान को यूपीएससी में सफलता साल 2019 में मिली और उन्हें 258 रैंक हासिल हुई थी।

ग्रेजुएशन के बाद ही शुरू कर दी थी तैयारी –

परमान अहमद खान ने यूट्यूब पर अपने एक इंटरव्यू में बताया कि वह बचपन से ही आईएएस बनने का सपना देखते थे। वह अपने सपने को पूरा करने के लिए बचपन से ही दृढ़ निश्चय कर लिए थे।

साल 2014 में जब फरमान ने अपनी ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल की तब उसी के बाद वह यूपीएससी की तैयारी में जुट जाते हैं। वह यूपीएससी की तैयारी करने के लिए दिल्ली के प्रतिष्ठित जामिया रेजिडेंशियल कोचिंग में रहकर तैयारी करते हैं।

इस दौरान फरमान अहमद खान तीन बार इंटरव्यू देते हैं। तीनों बार उन्हें असफलता का सामना करना पड़ता है। फरमान अहमद खान जब यूपीएससी का चौथा अटेम्प्ट देते हैं तब प्रीलिम्स की परीक्षा वह पास नहीं कर पाते हैं।

इस बार बार की असफलता से फरमान अहमद खान कभी निराश नहीं हुए वह नए सिरे से फिर से हर बार अपनी तैयारी में जुट जाते थे। फरमान अहमद खान के स्थान पर यदि कोई दूसरा इंसान होता तो शायद वहां हार जाता और अपनी तैयारी छोड़ देता। लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया।

एक इंटरव्यू के दौरान फरमान अहमद खान ने कहा कि जब चौथी बार यूपीएससी की परीक्षा दी तो प्रीलिम्स में ही फेल हो गया। तभ यह उनके लिए चौका देने वाला मामला था क्योंकि लगातार तीन बार वह इंटरव्यू स्टेज तक पहुंचे थे। लेकिन चौथे अटेम्प्ट में वह प्रारंभिक परीक्षा भी नहीं पास कर पाए थे।

वह कहते हैं ऐसे में कोई भी व्यक्ति होता तो टूट जाता एक पल के लिए वह खुद भी निराश हुए लेकिन उन्होंने खुद को संभाला और
अपनी तैयारी फिर से शुरू की।

फरमान अहमद का परिवार –

फरमान अहमद का परिवार एक मिडिल क्लास परिवार से संबंध रखता है। वह गुरुग्राम के रहने वाले हैं। उनके पिता डीएम कार्यालय में सरकारी नौकरी करते हैं तथा उनकी माता हाउसवाइफ है।

माता-पिता के सपोर्ट की वजह से ही फरमान ने कभी भी हार नहीं मानी और लगातार यूपीएससी की तैयारी करते रहे और छठवीं बार वह एग्जाम देने पहुंचे इस बार उनका लक उनका साथ दिया और उन्होंने यूपीएससी की परीक्षा में अच्छे अंक से पास की और उनका आईएएस बनने का सपना पूरा हो गया।

प्रेरणा –

फरमान अहमद की कहानी यूपीएससी की तैयारी करने वाले अभ्यर्थियों के लिए एक मिसाल है। फरमान अहमद खान से प्रेरणा लेकर अभ्यार्थी अपनी तैयारी में असफलता के बावजूद प्रयासरत रह सकते हैं। अगर वह सही दिशा में लगातार तैयारी करते हैं तो एक न एक दिन किस्मत साथ देगी और मेहनत साथ देगी और उन्हें सफलता जरूर मिलेगी।

यह भी पढ़ें :

UPSC mains एग्जाम में नही मिली थी एंट्री, जानिए IRS ऑफिसर बनने के शेखर कुमार के सफर को