ADVERTISEMENT
Success story of IAS Topper Nagarjun B Gowda

IAS Success Story: Nagarjun Gowda के अनुसार संसाधनों की कमी सफल होने से नही रोक सकती

ADVERTISEMENT

Success story of IAS Topper Nagarjun B Gowda :

आईएएस ऑफिसर नागार्जुन गौड़ा के संघर्ष और फिर सफलता हासिल करने की कहानी यूपीएससी की तैयारी करने वाले युवाओं में आशा का संचार करने के लिए पर्याप्त है। नागार्जुन गौड़ा अपनी जिंदगी में बेहद संघर्षों से गुजरे हैं।

वह पहले डॉक्टर बनते हैं और डॉक्टर बनने के बाद यूपीएससी की तैयारी करते हैं और आईएएस ऑफिसर बनते हैं। नागार्जुन गौड़ा अपने
जीवन में आर्थिक तंगी का भी सामना करते हैं।

ADVERTISEMENT

यही वजह है कि वह यूपीएससी की तैयारी नौकरी के साथ- साथ करते हैं। वह कड़ी मेहनत करते हैं और उन्हें यूपीएससी में दूसरे प्रयास में सफलता मिलती है।

नागार्जुन गौड़ा ने एमबीबीएस की डिग्री हासिल की –

नागार्जुन गौड़ा का जन्म कर्नाटक के एक बेहद छोटे गांव में हुआ था। उनके घर की आर्थिक स्थिति बेहद कमजोर थी घर की आर्थिक स्थिति अच्छी न होने की वजह से वह अपनी पढ़ाई में कड़ी मेहनत किया करते थे।

नागार्जुन गौड़ा का सपना बड़ा था। वह इंटरमीडिएट की पढ़ाई करने के बाद एमबीबीएस करना चाहते थे। इसके लिए उन्होंने एमबीबीएस का एंट्रेंस दिया और परीक्षा में सफलता हासिल की और एमबीबीएस में एडमिशन लिया।

एमबीबीएस की डिग्री हासिल करने के बाद नागार्जुन गौड़ा एक हॉस्पिटल में नौकरी ज्वाइन कर लेते हैं। इसी दौरान उनके मन में यूपीएससी की तैयारी करने का ख्याल आता है।

वह कमजोर आर्थिक स्थिति के बावजूद नौकरी के साथ-साथ यूपीएससी की तैयारी करने का फैसला करते हैं। नागार्जुन गौड़ा का मानना है कि यूपीएससी की परीक्षा मैं सफलता हासिल करने के लिए संसाधनों का रोना नहीं रोना चाहिए।  आपके पास जितने संसाधन मौजूद हैं उन्हीं का सही ढंग से उपयोग करके भी आप यूपीएससी की परीक्षा पास कर सकते हैं।

हर दिन 6 से 8 घंटे की पढ़ाई करते थे –

नागार्जुन गौड़ा रोजाना 6 से 8 घंटे समय निकाल कर पढ़ाई किया करते थे। उनका मानना है कि अगर आप सही रणनीति के साथ 6 से 8 घंटे भी पढ़ाई करते हैं, तब आप नौकरी के साथ-साथ इस परीक्षा को पास कर सकते हैं।

हालांकि उनका यह भी मानना है कि आपको इसके लिए हर चीज बेहद समझदारी के साथ एक रणनीति के साथ प्लान करना होगा। हर चीज के लिए एक समय निर्धारित करना होगा। उनका मानना है कि कोशिश करें जल्द से जल्द सिलेबस को कंप्लीट करके ज्यादा से ज्यादा रिवीजन करें।  क्योंकि आप जितना ज्यादा रिवाइज करते हैं आप की तैयारी उतनी ही बेहतर होती जाती है।

अन्य अभ्यर्थियों को सलाह –

नागार्जुन गौड़ा का मानना है कि यदि आप यूपीएससी की परीक्षा में सफलता प्राप्त करना चाहते हैं तो कभी भी संसाधनों का रोना न रोए। क्योंकि आपके पास जो भी संसाधन हैं जैसे भी हैं, उनका यथासंभव प्रयोग करें और अपनी तैयारी करते रहें। आप नौकरी के साथ भी यूपीएससी सिविल सर्विसेज की तैयारी कर सकते हैं।

यूपीएससी की तैयारी बिना कोचिंग के भी की जा सकती है और सफलता हासिल की जा सकती है। बशर्ते कि आपको इसके लिए स्मार्ट वर्क, व हार्ड वर्क के साथ शायद धैर्य रखना होगा और अपनी तैयारी लगातार करनी होगी। अगर आप सही ढंग से तैयारी करते हैं तो आप यूपीएससी की परीक्षा में सफलता जरूर हासिल करेंगे।

यह भी पढ़ें :

UPSC mains एग्जाम में नही मिली थी एंट्री, जानिए IRS ऑफिसर बनने के शेखर कुमार के सफर को

Similar Posts

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *