नवम्बर 29, 2022

Motivational & Success Stories in Hindi- Best Real Life Inspirational Stories

Find the best motivational stories in hindi, inspirational story in hindi for success and more at hindifeeds.com

Success Story of IPS N. Ambika in Hindi 

14 साल की उम्र में हो गई थी शादी, पति को अफसरों को सैल्यूट करते देखा तो बन गई आईपीएस

कहा जाता है कि अगर बुलंद हौसले और सच्ची लगन के साथ काम किया जाए तो सफलता आपके कदम चुनती है और इसी बात को सच करके दिखाया है आईपीएस ऑफिसर एन. अंबिका ने , जानकारी के लिए आप सभी को बता दें कि एन. अंबिका तमिलनाडु की रहने वाली है , अंबिका की शादी 14 वर्ष में हो गई थी और 18 वर्ष की उम्र में वह दो बच्चों की मां भी बन गई थी ।

अंबिका की जिंदगी भी एक आम ग्रहणी की तरह चल रही थी परंतु एक घटना ने अंबिका की पूरी जिंदगी बदल दी और उन्हें आईपीएस बनने के लिए प्रेरित कर दिया । इस दौरान उन्हें परिवार से काफी अधिक सपोर्ट मिला और वह अपनी मेहनत और लगन के बल पर आईपीएस ऑफिसर बन गई ।

जानकारी के लिए आप सभी को बता दें कि  तमिलनाडु की एन. अंबिका को तेज तरार आईपीएस अफसरों में से गिना जाता है, आइए जानते हैं आईपीएस अफसर एन. अंबिका की सफलता की कहानी , जो आज कई महिलाओं के लिए प्रेरणा स्रोत बन कर सामने आ रही है ।

पुलिस कॉन्स्टेबल से 14 साल की उम्र में हो गई थी शादी

तमिलनाडु के रहने वाले हैं अंबिका की शादी 14 वर्ष की आयु में डिंडिकल के पुलिस कांस्टेबल से करा दी गई थी, और 18 वर्ष की आयु में अंबिका 2 बच्चों की मां भी बन गई थी , काफी छोटी उम्र में अंबिका की शादी हो गई थी इसलिए वह अपनी प्रारंभिक शिक्षा भी पूरी नहीं कर पाई थी।

अंबिका अपने परिवार को संभाल रही थी और खुशी से अपने बच्चों का पालन पोषण भी कर रही थी इस तरह उनके मन में आईपीएस बनने का ख्याल भी नहीं आया था परंतु एक घटना ने उनके जीवन को पूरी तरह से बदल दिया था ।

गणतंत्र दिवस की परेड में मिली आईपीएस बनने की प्रेरणा

अंबिका एक इंटरव्यू के दौरान अपने आईपीएस बनने की प्रेरणा के बारे में बताते हुए कहती हैं कि एक दिन अपने कॉन्स्टेबल पति के साथ गणतंत्र दिवस की परेड देखने गई थी उन्होंने देखा कि उनके पति कई उच्च अधिकारियों को सैल्यूट कर रहे थे इस दौरान उसने घर वापस

आने के बाद अपने पति से इस बारे में पूछा तब उसके पति ने उसे बताया कि वह सभी उच्च अधिकारी थे जो कि आईपीएस हैं इस दौरान अंबिका के पति ने उसे आईपीएस में मिलने वाले सम्मान और उच्च स्तर की पूरी जानकारी दी इस दौरान ही सभी जानकारी हासिल करने के बाद अंबिका ने सिविल सर्विस के एंट्रेंस एग्जाम को देने का निश्चय किया था।

अंबिका ने शुरू कर दी तैयारी

अंबिका ने अपने पति से पूरी जानकारी हासिल करने के बाद अपनी आगे की पढ़ाई को जारी करने का निश्चय किया इस दौरान उसने सबसे पहले प्राइवेट कोचिंग की मदद अपने दसवीं की पढ़ाई को पूरे करना शुरू किया इसके बाद अंबिका ने डिस्टेंस लर्निंग की मदद से 12वीं और ग्रेजुएशन की पढ़ाई को पूरा किया। इसके कुछ समय बाद ही अंबिका ने यूपीएससी की परीक्षा की तैयारी करना शुरू कर दिया ‌।

पति के द्वारा मिला पूरा सपोर्ट

जानकारी के लिए आप सभी को बता दें कि अंबिका अपने परिवार के साथ डिंडीगुल नाम के एक छोटे से कस्बे में रहती थी जहां पर यूपीएससी की तैयारी करने के लिए किसी भी प्रकार का कोचिंग सेंटर नहीं था इसलिए अंबिका ने निश्चय किया कि वह चेन्नई में जाकर

यूपीएससी परीक्षा की तैयारी करेंगी। इस दौरान यूपीएससी की तैयारी के लिए अंबिका जब चेन्नई में रह रही थी तब उसके पति ने उसका पूरा सपोर्ट किया इसके साथ ही साथ अंबिका ने अपनी तैयारी के साथ-साथ अपने पति की जॉब और अपने बच्चों को भी संभाला ।

तीन बार असफलता के बाद पति ने कहा लौट आओ

अंबिका ने पूरी मेहनत और सफलता के साथ यूपीएससी की परीक्षा दी परंतु वह तीन बार असफल रहे इस दौरान उनके परिवार वाले निराश हो गए और पति ने उसे वापस आने के लिए कहा परंतु अंबिका ने पति से आखिरी मौका मांगा और वह अपने इस आखिरी मौके में सफलता को हासिल कर पाई ।

आखिरी प्रयास में अंबिका बनी आईपीएस अफसर

अंबिका अपने चौथे प्रयास में वर्ष 2008 में यूपीएससी की परीक्षा को पास करके एक सफल आईपीएस ऑफिसर बन गई , सफलता के बाद अंबिका को महाराष्ट्र  कैडर में पोस्टिंग मिली। वर्तमान में अंबिका मुंबई में जोन-4 की डीसीपी हैं।

 

लेखिका : अमरजीत कौर

यह भी पढ़ें :

 

मजदूर का बेटा बना आईएएस अफसर, अफसर बनने के बाद भी करता है गांव के खेतों में आकर मजदूरी