ADVERTISEMENT

ब्रेन ट्यूमर और कैंसर होने के बावजूद भी नहीं मानी हार , आज टिफिन सर्विस चला कर कर रहे हैं परिवार का भरण पोषण

ADVERTISEMENT

आज हम बात कर रहे हैं मिलिन वाढेर के बारे में , दरअसल करो ना काल में नौकरी जाने के बाद एवं ब्रेन ट्यूमर जैसी गंभीर बीमारी के बारे में पता चलने के बावजूद भी इन्होंने अपनी जिंदगी से हार नहीं मानी और अपनी पत्नी के साथ मिलकर टिफिन सर्विस शुरू करके अपने परिवार का भरण पोषण कर रहे हैं।

मुश्किल समय में जब परिवार के अहम सदस्य की नौकरी चल जाए और साथ ही साथ यह पता चले कि वह सदस्य गंभीर रूप से बीमार है तो परिवार के सभी सदस्यों के ऊपर कई परेशानियों का पहाड़ टूट पड़ता है , इस प्रकार की परिस्थितियों में कई बार देखा गया है कि लोग अक्सर हिम्मत हार जाते हैं और लोगों के आगे हाथ फैलाने पर मजबूर हो जाते हैं ।

ADVERTISEMENT

परंतु इसकी दूसरी तरफ कई लोग ऐसे भी होते हैं जो परिस्थितियों और हालात से डरते नहीं और डट कर उनका सामना करते हैं एवं परिस्थितियों का विकल्प खोजते हैं , अर्थात हमारी आज की कहानी आयुष टिफिन के नाम से एक टिफिन बिजनेस चलाने वाले मिलिन और पूजा वाढेर कुछ इसी प्रकार का अर्थ हमें व्यक्त कर रहे हैं ।

जानकारी के लिए आप सभी को बता दें कि मिलिन ब्रेन ट्यूमर से लड़ रहे हैं अर्थात घर को संभालने के लिए मिलिन की पत्नी पूजा ने अपने 7 साल के बेटे की जिम्मेदारी उठाने के लिए टिफिन सर्विस का कार्य शुरू करने का निश्चय किया । अर्थात आज वह अपनी आयुष टिफिन सर्विस के द्वारा 50 से 45 ग्राहकों को प्रतिदिन अपने टिफिन बॉक्स पहुंचा रहे हैं ।

करोना अपने साथ लेकर आया था कई प्रकार की मुश्किल है

करोना कॉल से पहले मिलन स्विग्गी में एक डिलीवरी ब्वॉय का कार्य करते थे परंतु महामारी के वक्त उनकी नौकरी चली गई, अर्थात यह मुसीबत कम नहीं थी कि कुछ दिन के बाद उन्हें यह पता चला कि उन्हें ब्रेन ट्यूमर जैसी गंभीर बीमारी है ।

मिलिन बताते हैं कि जब करुणा काल में नौकरी चली गई तब मैं और मेरी पत्नी मिलकर सोचने लगे कि आगे क्या किया जाए इस दौरान ही सर मैं काफी अत्यधिक पीड़ा होने लगी उसके बाद डॉक्टर के मशवरे से पता चला कि मुझे ब्रेन ट्यूमर जैसी गंभीर बीमारी है ।

परिवार की इस मुसीबत की घड़ी में उनकी पत्नी ने हिम्मत दिखाई और घर पर टिफिन सर्विस का कार्य शुरू किया , मिलिन अपनी बीमारी के कारण अत्यधिक समय तक धूप में नहीं रह सकते थे इसलिए उन्होंने घर में रहकर अपनी पत्नी का हाथ टिफिन सर्विस के बिजनेस में बंटाना शुरू कर दिया। इस दौरान मिलिन और पूजा ने नवंबर वर्ष 2020 में अपने आयुष टिफिन बिजनेस की शुरुआत की थी।

दोनों पति पत्नी मिलकर बिजनेस का कार्य करते हैं और अपने जीवन के लिए काफी सकारात्मक विचार भी रखते हैं मिलिन बताते हैं कि नियमित रूप से हमारे 45 ग्राहक  हैं परंतु प्रतिदिन 10 से 15 एक्स्ट्रा आर्डर मिल ही जाते हैं ।

लेखिका : अमरजीत कौर

यह भी पढ़ें :

बुजुर्गों होने के बाद भी नहीं हारी हिम्मत , 85 वर्ष की उम्र में खड़ा किया खुद का बिजनेस, आइए जानते हैं सफलता की पूरी कहानी

Similar Posts

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *