ADVERTISEMENT
Tushar Choudhary safal kisan

अमेरिका के 80 लाख पैकेज वाली नौकरी को छोड़ कर बने किसान , आइए जानते हैं मेरठ के किसान तुषार के बारे में जो खीरे की खेती करके बन गए हैं करोड़पति

ADVERTISEMENT

कई लोगों का ऐसा मानना है कि खेती मुनाफे का सौदा नहीं है इस दौरान उन्हें किसान तुषार चौधरी के बारे में तो पढ़ना ही चाहिए , जानकारी के लिए आप सभी को बता दें कि तुषार चौधरी पहले अमेरिका की एक मल्टीनेशनल कंपनी में सालाना 80 लाख वाली जॉब किया करते थे ।

तुषार ने अपनी नौकरी छोड़कर भारत लौटने का फैसला किया, और आज भारत लौटकर अपने इलाके की पहचान बन गए हैं , जानकारी के लिए आप सभी को बता दें कि तुषार चौधरी खीरे और शिमला मिर्च की खेती करके सालाना करोड़ों की कमाई कर रहे हैं , केवल इतना ही नहीं उन्होंने 80 से अधिक लोगों को रोजगार भी दिया है ।

ADVERTISEMENT

बातचीत के दौरान तुषार चौधरी बताते हैं कि उन्होंने इजरायलियों से पॉलीहाउस फार्मिंग का आईडिया लिया और उसी को अपनाकर खेती करनी शुरू की थी , आज तुषार चौधरी पॉलीहाउस विधि से खीरे उगा कर करीब 8 राज्यों में सप्लाई करते हैं और सालाना करोड़ों का मुनाफा अर्जित करते हैं ।

सिंबोसिस से की है एमबीए की पढ़ाई

जानकारी के लिए आप सभी को बता दें कि तुषार चौधरी मूल रूप से मेरठ के सरधना के बुबुकपुर गांव के रहने वाले हैं , अर्थात इनके इलाके के किसान इन्हें खेतों का जानकार कहा करते हैं।

जानकारी के लिए आप सभी को बता दें कि तुषार ने अपनी स्कूली शिक्षा हासिल करने के बाद देश के टॉप कॉलेज सिंबोसिस से एमबीए की पढ़ाई की थी , और पढ़ाई के बाद ही इन्हें अमेरिका की मल्टीनेशनल कंपनी में 80 लाख के पैकेज वाली नौकरी मिल गई थी परंतु यह नौकरी उन्हें रास नहीं आ रही थी इसलिए वह अपनी नौकरी छोड़कर भारत वापस लौट आए और अपने पिता के खेतों में उनका हाथ बंटाने लगे ।

इस प्रकार करते हैं पॉलीहाउस विधि से खीरे की खेती

तुषार बताते हैं कि पॉलीहाउस विधि से खेती करना इतना आसान नहीं था परंतु फिर भी इन्होंने पॉलीहाउस विधि को अपनाया और खीरे की खेती करनी शुरू की अर्थात इस दौरान उन्होंने दिल्ली लखनऊ के कृषि विशेषज्ञों से सलाह भी ली , फिर उनकी सलाह के द्वारा ही उस प्रकार से उन्होंने अपने खेत को तैयार किया और सक्सेस के डर से लगातार आगे बढ़ते रहें ।

वह बताते हैं कि उन्होंने अपने खेतों के तापमान को सही तरीके से मेंटेन करने के लिए कूलर लगवाया साथ ही साथ खेतों में नमी बनाए रखने के लिए स्प्रिंकलर और फॉगर से सिंचाई की शुरुआत की एवं ग्रीन पॉली का इस्तेमाल किया था गर्मी, बरसात एवं ठंड एवं कोहरे में भी फसल खराब ना हो ।

4 एकड़ के खेतों में करते हैं केवल खीरे की खेती

जानकारी के लिए आप सभी को बता दें कि आज के समय में तुषार के पास 4 एकड़ जमीन है जिस पर वह पॉलीहाउस विधि से केवल खीरे की खेती करते हैं , और कभी-कभी शिमला मिर्च की खेती भी करते हैं , साथ ही साथ तुषार अपनी पॉलीहाउस विधि से उगाए गए कि खीरे की उपज को दिल्ली , यूपी अर्थात अन्य कई राज्यों में निर्यात करते हैं और सालाना करोड़ों का मुनाफा अर्जित करते हैं ।

10 एकड़ की जमीन में कर रहे हैं खेती की तैयारी

बातचीत के दौरान तुषार बताते हैं कि आज मैं अपनी मल्टीनेशनल कंपनी की नौकरी को छोड़ कर खेतों में काम करके काफी अधिक संतुष्ट हूं अर्थात अधिक मुनाफा भी कमा लेता हूं और आगे चलकर अपने दायरे को बढ़ाकर 10 एकड़ की जमीन में पॉलीहाउस की विधि से खेती प्रारंभ करना चाहता हूं।

 

लेखिका : अमरजीत कौर

यह भी पढ़ें :

आइए जानते हैं भरत सिंह के बारे में, जिन्हें पौधों के संरक्षण के लिए किया गया है सम्मानित

Similar Posts

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *