नवम्बर 29, 2022

Motivational & Success Stories in Hindi- Best Real Life Inspirational Stories

Find the best motivational stories in hindi, inspirational story in hindi for success and more at hindifeeds.com

Yash Julka

UPSC 2020 में चौथी रैंक प्राप्त करने वाले झारखंड के यश जालुका ने अपनाई थी यह रणनीति

Yash Juluka UPSC Success story in Hindi :-

अभी हाल में है संघ लोक सेवा द्वारा आयोजित सिविल सर्विसेज परीक्षा का परिणाम जारी किया गया है। यूपीएससी द्वारा आयोजित साल 2020 की सिविल सेवा परीक्षा में चौथी रैंक प्राप्त की है झारखंड के यस जालुका ने।

खास बात यह है कि यस ने यह कामयाबी अपने पहले ही प्रयास में हासिल कर ली है। आज हम जानेंगे यस ने किस रणनीति को अपनाकर पहले ही प्रयास में यूपीएससी में सफलता हासिल की और इतनी अच्छी रैंक पाई

परिचय

यस चालुका मूल रूप से झारखंड के एक छोटे से शहर झरिया से ताल्लुक रखने वाले हैं। यश का जन्म 1995 में हुआ था। उन्होंने महज 26 साल की उम्र में अपने मेहनत के दम पर न सिर्फ अपने माता-पिता का नाम रोशन किया बल्कि देशभर में झारखंड का नाम रोशन कर दिया हैम

प्रारंभिक शिक्षा –

झारखंड के यस तालुका जिन्होंने यूपीएससी परीक्षा में चौथी रैंक हासिल की है अपनी प्रारंभिक पढ़ाई झारखंड के झरिया से ही की है। उन्होंने कक्षा 8 तक की पढ़ाई झरिया से हासिल की।

इसके बाद वह उड़ीसा चले गए, जहां पर वह दसवीं तक की अपनी शिक्षा प्राप्त करते हैं। दसवीं की शिक्षा प्राप्त करने के बाद यस झारखंड के बोकारो के दिल्ली पब्लिक स्कूल में एडमिशन लेते हैं और अपनी इंटरमीडिएट की पढ़ाई पूरी करते हैं।

इस तरह यस ने झारखंड में ही अपनी स्कूली पढ़ाई पूरी की। स्कूली पढ़ाई पूरी करने के बाद यश देश की राजधानी दिल्ली चले आए और यहां पर दिल्ली विश्वविद्यालय के किरोरी मल कॉलेज में बैचलर में एडमिशन लिया।

बता दें यस जालुका अपना ग्रेजुएशन इकोनॉमिक्स विषय के साथ किए हैं। ग्रेजुएशन करने के बाद उन्होंने दिल्ली स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स से पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल की। यस ने अपनी पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री 2019 में प्राप्त की।

मास्टर के बाद शुरू की यूपीएससी की तैयारी :-

यस चालुका 2019 में दिल्ली स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स से अपना मास्टर्स पूरा करते हैं। मास्टर्स पूरा करने के बाद ही वह सिविल सेवा की तैयारी में जुट जाते हैं। बता दें कि यश ने अपने optional सब्जेक्ट के रूप में इकोनॉमिक्स को ही रखा था।

यश ने  यूपीएससी की तैयारी करने के लिए कोई कोचिंग ज्वाइन नहीं की बल्कि self-study से ही अपनी तैयारी की। कठिन परिश्रम और सही रणनीत को अपनाकर यश ने पहले ही प्रयास में सफलता हासिल कर ली।

यस नसिर्फ यूपीएससी परीक्षा में सफलता हासिल की बल्कि टॉपर्स की सूची में भी वह चौथे स्थान पर रहे। इस तरह से यश ने यह सफलता सेल्फ स्टडी के दम पर हासिल की।

सिविल सेवा परीक्षा में रणनीति है जरूरी –

यूपीएससी 2020 की परीक्षा में चौथी रैंक प्राप्त करने वाले ही यस का कहना है कि सिविल सेवा परीक्षा को पास करने के लिए रणनीति बहुत जरूरी होती है। सही रणनीत व सही दिशा में किया गया प्रयास आपको सफलता दिलाता है।

यस कहते हैं कि वह हर दिन नियमित रूप से कम से कम 8 घंटे की पढ़ाई करते थे। इसमें वहां 3 से 4 घंटे केवल न्यूज़पेपर को पढ़ने में ही देते थे।

यस बताते हैं कि न्यूज़पेपर को अच्छे ढंग से पढ़ने के बाद वह इससे तुरंत नोट्स बना लिया करते थे जिससे तैयारी में मदद मिली। न्यूज़पेपर के अलावा वह सभी विषयों की भी नोट्स  बनाए थे।

दूसरे अभ्यर्थियों को सलाह देते हुए यस कहते कि यूपीएससी की तैयारी में किसी भी सब्जेक्ट के लिए सिर्फ एक किताबें पढ़नी चाहिए। एक किताब काफी होती है इसके अलावा करंट अफेयर्स के लिए किसी स्टैंडर्ड मैगजीन को ले सकते हैं।

यह भी पढ़ें :

UPSC Success story in Hindi : बेहतरीन रणनीत अपना कर पहले प्रयास में इस तरह दिव्यांशु सिंगल बने आईएएस