नवम्बर 27, 2022

Motivational & Success Stories in Hindi- Best Real Life Inspirational Stories

Find the best motivational stories in hindi, inspirational story in hindi for success and more at hindifeeds.com

Women farmer of Hazaribagh Jharkhand

Women farmer of Hazaribagh Jharkhand

झारखंड के हजारीबाग की किसान महिलाओं ने एफपीओ बनाके कर दिया कमाल, दो साल में ही बेच दी 2.5 करोड़ की सब्जियां

आज हम बात करने वाले हैं झारखंड के हजारीबाग में रहने वाले उन ग्रामीण महिलाओं की जिन्होंने फार्मर्स प्रोड्यूसर कंपनी बनाकर आज करोड़ रुपए का कारोबार कर लिया है और इनके साथ जुड़ने वाले कई किसानों को लखपति बना दिया है।

झारखंड के हजारीबाग में किसान उत्पादक संगठन (FPO-Farmer Producer Organization) कृषि क्षेत्र में ग्रामीण क्षेत्र  की महिलाओं ने कमाल कर दिया है।

ग्रामीण क्षेत्र की महिलाओं ने यह तो साबित कर दिया है कि वे केवल खेती ही नहीं बल्कि एक कंपनी को भी चला सकती है और मुनाफा भी अधिक कमा सकती हैं।

ग्रामीण क्षेत्र की महिलाओं ने झारखंड में फार्मर्स प्रोड्यूसर्स कंपनी बनाकर झारखंड  में कृषि क्षेत्र एवं किसानों के लिए नई  लहर लेकर आई है।

ग्रामीण महिलाओं ने अपने बल पर खोली गई कंपनी में 1 साल में तीन करोड़ से अधिक सब्जियों का क्रय विक्रय किया और उनके इस कार्य के लिए भारत सरकार ने उन्हें सम्मानित भी किया है।

इन महिलाओं की सफलता की कहानी की शुरुआत हजारीबाग जिले के चुरचू ब्लॉक से होती है। यहीं पर कुछ महिलाओं ने कुछ किसान महिलाओं को एक साथ संगठित किया और साल 2018 में चुरचू नारी उर्जा फार्मर प्रोड्यूसर कंपनी लिमिटेड की स्थापना की।

इसके बाद कंपनी से जुड़ी महिलाओं को खेती का उच्चतम प्रतिक्षण दिया गया और इसी के साथ सभी महिलाओं को खेती करने की नई तकनीके बताई गई और इसके साथ महिलाओं के बीच में उन्नत किस्म के बीज भी बांटे गए।

बातचीत के दौरान महिला किसान सोरेन बताती है कि खेती करने के लिए उत्तम बीज और खाद उन्हें कंपनी के द्वारा ही मिल जाते थे और खेती के बाद जितनी उपज होती थी हम कंपनी को दे देते थे।

नारी उर्जा फार्मर प्रोड्यूसर कंपनी लिमिटेड कंपनी में बोर्ड ऑफ डायरेक्टर से लेकर सभी है महिला किसान 

जानकारी के लिए आप सभी को बता दें कि हजारीबाग के चुरचू  ब्लॉक में स्थापित नारी उर्जा फार्मर प्रोड्यूसर कंपनी लिमिटेड की सबसे बड़ी खासियत यह है कि यह कंपनी केवल महिलाएं चलाती हैं यहां पर बोर्ड ऑफ डायरेक्टर से लेकर सभी महिला किसान ही हैं।

जानकारियों से पता चला है कि नारी ऊर्जा फार्मर प्रोड्यूसर कंपनी लिमिटेड में 2000 किसान शेयर होल्डर है, और इसके साथ ही साथ डांडी प्रखंड के 7000 से अधिक किसान महिलाएं जुड़ी हुई है।

इस कंपनी में 67 उत्पादक समूह है एवं प्रत्येक उत्पादक समूह में 50 से 60 महिलाएं सदस्य है , एवं  उत्पादक समूह के जरिए इस कंपनी को सब्जियां और फल मिलते हैं।

इस प्रकार हुई कंपनी की शुरुआत

चुरचू नारी उर्जा फार्मर प्रोड्यूसर कंपनी लिमिटेड के सीईओ शिवनाथ का कहना है कि सबसे पहले यहां की महिलाओं ने यहां पर फेडरेशन की शुरुआत की थी।

उसके बाद एक ही योजना के जरिए प्रत्येक किसान कि प्रतिवर्ष आय ₹1 लाख 20 रुपए होना आवश्यक है, इसीलिए इस योजना के तहत सभी किसानों को तकनीक सहायता का ज्ञान दिया गया और इनके लिए मार्केटिंग का आयोजन भी की गई।

किसानों को कंपनी में जोड़ने में हुई काफी परेशानी

चुरचू नारी उर्जा फार्मर प्रोड्यूसर कंपनी लिमिटेड की अध्यक्ष सुमित्रा देवी का कहना है कि इस कंपनी को यहां तक लाने में हम सभी को काफी संघर्ष करना पड़ा, क्योंकी सबसे मेहनत का काम सभी किसानों को हमारे प्रति विश्वास दिलाना था।

इस कंपनी से जुड़ने के लिए पहले तो महिलाएं पैसे देने के लिए तैयार ही नहीं थी , परंतु किसी तरह महिलाओं को समझाया गया उसके बाद सबसे बड़ी समस्या यह खड़ी हुई कि महिलाओं से खेती करवाना और उनसे उत्पाद कैसे लिया जाए।

क्योंकि ग्रामीण इलाकों में किसान अपना उत्पाद उन्हें ही बेचते थे जिनसे उन्हें नगद रुपए मिल जाए। परंतु किसी तरह किसानों को समझाया गया कि नगद पैसे देने वाले खरीदार उन्हें किस तरह लूटते हैं उसके बाद किसानों का भरोसा हम पर आया और वह हमें अपना उत्पाद देने लगे।

कंपनी से मिलता है उचित दाम में  खाद और उत्तम कोटी के बीज

कंपनी के सीईओ बताते हैं कि हम अपनी कंपनी के तरफ से किसानों को उच्चतम कोटि के बीज और खाद देते है। क्योंकि हमारी कंपनी अन्य कंपनियों से खाद बीज और कीटनाशक खरीदते हैं और इसमें मिलावट की कोई गुंजाइश नहीं होती है।

शिवराज कहते हैं कि हमारी कंपनी अन्य कंपनियों के साथ डील करती है और यही कारण है कि सभी किसानों को होलसेल के दाम पर उच्चतम कोटि के बीज खाद एवं कीटनाशक मिल जाते हैं।

इसके साथ ही साथ यूरिया और अन्य कीटनाशक जैसे DAP किसानों को सस्ते दाम में मिल जाते है कंपनी से यह सभी फायदे किसान आसानी से उठा लेते हैं।

इस प्रकार होती है कंपनी के उत्पाद की मार्केटिंग

जानकारी के लिए आप सभी को बता दें कि हजारीबाग समिति और ई नाम के जरिए किसानों द्वारा दिए गए उत्पादकों की मार्केटिंग की जाती है।

मार्केटिंग के लिए कंपनी में अलग-अलग राज्यों के लोग मौजूद होते हैं जो वीडियो से संपर्क करते हैं और माल की डिलीवरी भी करते हैं। कंपनी के 90% उत्पादक ई नाम पोर्टल  पर हजारीबाग समिति के जरिए बेचे जाते हैं।

इसीके साथ साथ अगर इस कंपनी के कमाई की बात करें तो साल 2019 – 20 मैं इस कंपनी ने एक करोड़ चार लाख रुपए अनाज और सब्जियां बेचकर कमाए थे। इसके बाद इस कंपनी ने केवल सब्जियों की बिक्री करके 75 लाख रुपए कमाए थे।

अनुमान के साथ कहा जाता है कि अब तक इस कंपनी ने अपनी मेहनत के बल पर डेढ़ लाख से अधिक का कारोबार कर लिया है, और इस कंपनी की मेहनत को देखते हुए भारत सरकार द्वारा इसे
बेस्ट एफपीओ ऑफ द इयर (Best FPO Of The Year) के अवार्ड से सम्मानित भी किया गया है।

कंपनी से जुड़ने के बाद बढ़ी है किसान महिलाओं की आय

खबरों से पता चला है कि किसानों की आय में बढ़ोतरी करने के लिए चलाई गई योजनाओं के तहत ग्रामीण महिलाओं की आय में बढ़ोतरी होती साफ नजर आ रही है।

इसके  साथ ही साथ महिलाओं को पशु पालन मछली पालन वनोपज एवं सिंचाई उनकी जरूरत के अनुसार उन्हें शिक्षित भी किया जा रहा है।

इसके साथ ही साथ नारी उर्जा फार्मर प्रोड्यूसर कंपनी लिमिटेड से जुड़ने वाली सभी महिलाओं की आमदनी में बढ़ोतरी आई है।

लेखिका : अमरजीत कौर

यह भी पढ़ें :

इंजीनियर की नौकरी छोड़ किया मछली पालन और कमा रहे हैं आज लाखों