ADVERTISEMENT
Aditya Varma UPSC success story in Hindi

पिता आईएएस, बेटे ने हासिल की महज 22 साल में यूपीएससी जैसी कठिन परीक्षा में सफलता

ADVERTISEMENT

भारत द्वारा हर साल आयोजित की जाने वाली सिविल सेवा की यूपीएससी की परीक्षा को सबसे कठिन परीक्षा माना जाता है अर्थात हर साल इस परीक्षा में सफलता हासिल करने की उम्मीद लिए लाखों अभ्यार्थी इस परीक्षा में हिस्सा लेते हैं , परंतु कुछ गिने चुने और अभयार्थी ही इस परीक्षा में सफलता हासिल कर पाते हैं ।

यूपीएससी जैसी कठिन परीक्षा में पहले प्रयास में सफलता हासिल करने वाले विद्यार्थी देश के कई युवाओं के लिए प्रेरणा स्रोत के रूप में उभर आते हैं साथ ही साथ कई अभ्यर्थी ऐसे होते हैं जो अपने पहले प्रयास मैं असफलता हासिल होने पर हार मान लेते हैं , साथ ही साथ कुछ विद्यार्थी ऐसे भी होते हैं जो लगातार असफलताओं के बावजूद भी सफलता हासिल करने की उम्मीद रखते हैं ।

ADVERTISEMENT

हर साल यूपीएससी जैसी कठिन परीक्षा को पास करने के लिए लाखों अभ्यार्थी खुद को निपुण बनाते हैं इसके लिए वे कोचिंग इंटरनेट तो कई किताबों का सहारा लेकर खुद को मजबूत एवं मोटिवेट करके यूपीएससी की कठिन परीक्षा में सफलता हासिल करने का प्रयत्न करते हैं ।

आज हम आपको कुछ इसी प्रकार के एक अभ्यार्थी आदित्य वर्मा के बारे में बताने वाले हैं , जानकारी के लिए आप सभी को बता दें कि आदित्य वर्मा ने अपने पहले प्रयास में ऑल ओवर इंडिया में 200 वीं रैंक हासिल करके अपने आईएएस बनने के सपने को पूरा किया है।

जानकारी के लिए आप सभी को बता दें कि आदित्य वर्मा मिर्जापुर के रहने वाले हैं आदित्य के पिता अपर पुलिस अफसर के पद पर तैनात है अन्यथा आदित्य ने महज 22 वर्ष की उम्र में ही यूपीएससी जैसी कठिन परीक्षा में सफलता हासिल की है।

इतना ही नहीं आदित्य के बुलंद हौसलों के बल पर आदित्य ने पूरे भारतवर्ष में 20 वीं रैंक  हासिल करके मिर्जापुर का नाम रोशन किया है ।

जानकारी के लिए आप सभी को बता दें कि आदित्य वर्मा ने ऑल ओवर इंडिया में भले ही 200 वीं रैंक हासिल कर मिर्जापुर का नाम रोशन किया है परंतु खास बात यह है कि आदित्य वर्मा ने यह सफलता केवल महज 22 वर्ष की आयु में प्राप्त की है ।

खबरों से पता चला है कि आदित्य वर्मा ने अपनी प्रारंभिक पढ़ाई लखनऊ पब्लिक स्कूल से हासिल की है , अर्थात वह लखनऊ से ही हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की पढ़ाई को पूरा करके चले गए थे । दिल्ली में आदित्य वर्मा ने बीटेक की पढ़ाई की और बीटेक की पढ़ाई को पूरा करने के बाद ही उन्होंने सिविल सेवा की परीक्षा की तैयारी करनी शुरू कर दी थी ।

आदित्य वर्मा ने यूपीएससी जैसे कठिन परीक्षा की तैयारी करने के बाद यूपीएससी की कठिन परीक्षा देने का निश्चय किया इस दौरान उन्होंने महज 22 वर्ष की आयु में अपने पहले प्रयास में ही सफलता हासिल कर ऑल ओवर इंडिया में 200 वीं रैंक हासिल की और मिर्जापुर का नाम रोशन कर दिया ।

पिता बने प्रेरणा स्रोत

आदित्य वर्मा ने अपनी सफलता का पूरा श्रेय अपने माता-पिता को दिया है , उन्होंने कहा है कि माता पिता के सहयोग से इस उपलब्धि को प्राप्त कर पाया है ।

बातचीत के दौरान आदित्य वर्मा बताते हैं कि पिता को एक पुलिस अधिकारी के रूप में गरीबों को कार्य करते हुए देखकर आईएएस बनने की प्रेरणा मिली थी इस दौरान ही उन्होंने आईएएस बनने का निश्चय कर लिया था और आज वह अपने सपने को पूरा कर पाए हैं ।

 

लेखिका : अमरजीत कौर

यह भी पढ़ें :

आइए जानते हैं किस प्रकार से नेत्रहीन होने के बावजूद भी सम्यक ने यूपीएससी सिविल सेवा की परीक्षा में हासिल की 7 वी रैंक

Similar Posts

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *