ADVERTISEMENT
Ankush Bhati UPSC Success story in Hindi

अंकुश भाटी ने इस तरह सिविल सर्विसेज परीक्षा में दूसरे प्रयास मे पाई सफलता | UPSC Success Story

ADVERTISEMENT

Ankush Bhati UPSC Success story in Hindi :-

यूपीएससी की परीक्षा को पास करना आज के समय मे लाखों युवाओं का सपना है। यूपीएससी परीक्षा देश की सबसे कठिनतम परीक्षाओं में से एक समझी जाती है। अपने विषय के टॉपर भी इस परीक्षा की तैयारी के दौरान तमाम चुनौतियों का सामना करते हैं।

आज हम जानेंगे एक ऐसे इंजीनियर गोल्ड मेडलिस्ट की सफलता की कहानी जिसने अपने पहले प्रयास में असफलता का सामना किया। लेकिन खुद का मूल्यांकन कर, सिविल सर्वेंट बनने के लिये इस परीक्षा को पास किया। जी हां हम बात कर रहे हैं अंकुश भाटी की।

ADVERTISEMENT

अंकुश भाटी एक परिचय –

अंकुर भाटी मूल रूप से उत्तर प्रदेश के रहने वाले हैं। उनकी प्रारंभिक शिक्षा केंद्रीय विद्यालय से हुई है। इसके बाद इंजीनियरिंग की डिग्री के लिए वाह रांची के बिरला इंस्टिट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग से बीटेक की डिग्री हासिल करते हैं।

अंकुश हमेशा से ही पढ़ने में मेधावी रहे हैं। अंकुर ने इंजीनियरिंग की पढ़ाई के दौरान ग्रेजुएशन में टॉप किया था, जिसके लिए उन्हें राष्ट्रपति द्वारा गोल्ड मेडल से पुरस्कृत भी किया गया था।

ग्रेजुएशन करने के बाद अंकुश भाटी ने एक कंपनी में एक साल तक नौकरी की। हालांकि नौकरी के दौरान उनके मन में सिविल सर्विस परीक्षा देने का विचार आया और वह सिविल सर्विस के क्षेत्र में अपना कैरियर बनाने का फैसला किये।

अंकुश हमेशा से पढ़ने में काफी होशियार थे,इसलिए यूपीएससी जैसे कठिन परीक्षा को पास करना उनके लिए कोई मुश्किल काम नहीं था। ऐसे में जब अंकुश ने यूपीएससी परीक्षा के लिए अपना पहला अटेंप्ट दिया तो उन्हें लगता था कि वह पास हो जाएंगे। लेकिन पहले एटेम्पट की प्रारंभिक परीक्षा भी वह पास नहीं कर पाये।

तब वह निराश होने के बजाय अपनी गलतियों को ढूढा और उससे सीख ली साथ ही उन्होंने अपनी कमियों को भी सुधारा। फिर लगातार तीन साल की कठिन मेहनत और लगन के बाद साल 2018 में अंकुश 238 रैंक हासिल करते हैं। इस तरह से सिविल सर्विसेज में जाने का उनका सपना पूरा हो जाता है।

अन्य अभ्यार्थियों को सलाह –

यूपीएससी की तैयारी करने वाले अन्य अभ्यर्थियों को अंकिश सलाह देते हैं कि सबसे पहले लोगों को सिलेबस को देख कर उसे अच्छी तरह से समझ लेना चाहिए। इसके बाद कुछ सीमित और स्टैंडर्ड बुक का चयन कर के अपनी तैयारी को शुरू करना चाहिए।

नियमित रूप से पढ़ाई के साथ नियमित रूप से समाचार पत्र देखना भी परीक्षा के लिए बेहद जरूरी होता है। फिर जब किसी विषय पर आप की पकड़ बेहतर हो जाये तब आप मॉक टेस्ट देना शुरू कर सकते हैं। मॉक टेस्ट देने से आपको खुद का मूल्यांकन करने में मदद मिलती है।

ऐसे करें तैयारी –

अंकुश भाटी का कहना है कि यूपीएससी की तैयारी करने के लिए सबसे पहले अभ्यर्थियों को उसके सिलेबस को पूरी तरह से कवर करने की कोशिश करनी चाहिए।

एक बार पूरा सिलेबस पढ़ लेने के बाद उसे करंट करंट अफेयर से जोड़ कर पढ़ने की कोशिश करनी चाहिए। क्योंकि बहुत सारे प्रश्न करंट अफेयर से पूछे जाते हैं।

करंट अफेयर्स के लिए दैनिक रूप से कोई एक समाचार पत्र पढ़ना जरूरी है। सिविल सर्विसेज परीक्षा में सफलता हासिल करने के लिए पढ़ाई करने के साथ-साथ आंसर राइटिंग की प्रैक्टिस करना बेहद जरूरी है।

वह बताते हैं कि कुछ बातों का ध्यान रखते हुए यदि सही दिशा में मेहनत की जाती है तो यूपीएससी की परीक्षा को पास किया जा सकता है और अपने सपने को पूरा किया जा सकता है ।

यह भी पढ़ें :

UPSC 2020 : जागृति ने नौकरी छोड़कर तैयारी की और AIR 2 रैंक लाई

Similar Posts

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *