ADVERTISEMENT
Chhattisgarh farmer Arvind sai ki kahani

आइए जानते हैं किस प्रकार एक साल में यह किसान खेती करके बन गया करोड़पति

ADVERTISEMENT

बात करने वाले हैं अरविंद साई के बारे में , अरविंद ने अपनी अच्छी खासी नौकरी को छोड़ कर खेती को चुना है और आज करोड़ों का मुनाफा अर्जित कर रहे हैं।

आजकल अच्छी अच्छी कंपनी में काम करने वाले लोग अपनी नौकरी को छोड़ कर खेती में हाथ आजमा रहे हैं अन्यथा कई किसान ऐसे भी हैं जो खेती को छोड़कर बिजनेस और कंपनियों में काम करना शुरू कर रहे हैं ।

ADVERTISEMENT

वहीं दूसरी तरफ अच्छे पढ़े-लिखे व्यक्ति खेती के तरफ अपना कदम आगे बढ़ा रहे हैं अन्यथा खेती एक ऐसा जरिया है जिससे देश के लोगों का पेट भरा जाता है, इसके  साथ ही साथ अधिक से अधिक कमाई भी की जा सकती है, इस बात को छत्तीसगढ़ के जसपुर के छोटे से गांव सिरिमकेला के रहने वाले अरविंद ने इसे सच साबित करके दिखाया है ।

लाखों की नौकरी छोड़ करते हैं खेती

जानकारी के लिए आप सभी को बता दें कि अरविंद ने MBA की पढ़ाई की है और यह एक मल्टी नेशनल बैंक में काम करते थे और इनकी कमाई लाखों होती थी परंतु नौकरी के दौरान इन्हें क्या सूझा कि इन्होंने अपनी नौकरी को छोड़ कर खेती करना शुरू कर दिया ।

अरविंद ने भले ही अपने लाखों की नौकरी को छोड़ दिया परंतु आज वह खेती में अपना मन लगा कर करोड़ों का मुनाफा अर्जित कर रहे हैं ।

अरविंद बताते हैं कि जब वह मल्टी नेशनल बैंक में काम कर रहे थे तब उनका मन बिल्कुल भी अपने काम में नहीं लग रहा था इसीलिए उन्होंने लाखों का पैकेज छोड़कर अपने गांव वापस आने का निश्चय कर लिया था ।

अरविंद ने गांव में कुछ समय के बाद अपने पिता को पारंपरिक खेती करते देखते हुए  , उन्होंने सोचा क्यों ना नई तकनीकों का इस्तेमाल करके खेती की जाए ताकि मुनाफा काफी अधिक हो सके और इस दौरान ही अरविंद ने खेती करना शुरू कर दिया ।

खेती में सहारे के लिए बड़े बुजुर्गों से लिया मशवरा

अरविंद आगे कहते हैं कि जब वह अपने गांव जाते थे बड़े बुजुर्गों से अक्सर मिला करते थे खेती-बाड़ी के बारे में बात करके जानकारी इकट्ठा किया करते थे । अरविंद को खेती की जानकारी मिलती गई अरविंद का मन खेती करने के लिए और अधिक अग्रसर होने लगा।

एक दिन अरविंद ने मन बना लिया अब नौकरी छोड़ खेती करेंगे इस दौरान उन्होंने ‌अपनी खेती की शुरुआत करने के लिए बड़े बुजुर्गों से मशवरा लिया और खेती करने में लग गए , अरविंद की मेहनत और लगन के कारण उनकी खेती में प्रतिदिन उन्नति होने लगी और जल्दी ही कामयाबी उनके हाथ लग गई ।

हर साल कमा रहे हैं करोड़ों रुपए

अरविंद अपनी नौकरी को छोड़ कर खेती में मन लगा कर करोड़ों का मुनाफा कमा लेते हैं , इसके साथ ही साथ अरविंद अपनी उन्नति  के गुण और सफलता के कई तरीके कई किसान भाइयों को बताते हैं ताकि किसान जागरूक हो सके

अन्यथा जो किसान खेती को छोड़कर दूसरा व्यवसाय शुरू करना चाहता है उन्हें‌ वह कई प्रकार के मुनाफा अर्जित करने की तकनीकी बताते हैं अरविंद किसानों के बीच में एक मिसाल बन कर आए हैं ।

किसानों को बताते हैं खेती के गुण

अरविंद अपनी सफलता के राज को बताते हुए अन्य किसानों को कहते हैं कि सभी किसान ज्यादा बीज लगाकर और कई केमिकल का इस्तेमाल करके खेती करते हैं और जिस से मिट्टी की उर्वरा शक्ति नष्ट हो जाती है और

पैदावार भी अधिक नहीं हो पाती है ।इसके ठीक विपरीत अरविंद कम बीज और बिना केमिकल के खेती करके काफी अधिक मुनाफा अर्जित कर लेते हैं, ऐसे ही कम लागत में काफी अधिक मुनाफा कमा ले रहे हैं ।

जैविक खादों को तैयार करके कम खर्च  में कमाते हैं अधिक मुनाफा

अरविंद बताते हैं कि खेतों में पैदावार को बढ़ाने के लिए जैविक खादों का उपयोग करना चाहिए अन्यथा जैविक खाद कम लागत में काफी अधिक मुनाफा देने में प्रबल योगदान निभाती है ।

अर्थात अरविंद जैविक खेती करके कम लागत में काफी अधिक मुनाफा कमा लेते हैं, अरविंद अपनी खेती से काफी अधिक मुनाफा तो कमा ही रहे हैं, उत्पन्न होने वाली पैदावार से कई प्रकार के आटे को तैयार करके बेच कर और भी अधिक मुनाफा कमा रहे हैं, और इस प्रकार अरविंद डबल मुनाफा अर्जित कर रहे हैं ।

आज अरविंद उन कई लोगों के लिए मिसाल है जो सोचते हैं कि सरकारी नौकरी और बिजनेस करना ही सब कुछ होता है अन्यथा अगर देखा जाए तो खेती एक मुनाफे का सौदा बन सकती है।

 

लेखिका : अमरजीत कौर

यह भी पढ़ें :

लोग समझते थे पागल, परंतु आज खस ( घास ) की खेती करके सलाना कमा रहे हैं 20 लाख रुपए

Similar Posts

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *