ADVERTISEMENT
Saptkrishi ki safalta ki kahani

ITI ग्रेजुएट के द्वारा तैयार की गई किसानों के लिए एक ऐसी फ्रिज, जो बिजली की बचत करती है और 30 दिनों तक सब्जियों को ताजा रखती है

ADVERTISEMENT

आजकल तो हम सभी भोजन की सेल्फ लाइफ को बढ़ाने के लिए रेफ्रिजरेटर का इस्तेमाल करते हैं, दूसरी तरफ किसान जो बड़े पैमाने पर फसलों का उत्पादन करते हैं, वह अपनी फसलों को बंद कमरे में एक भंडार के रूप में रखते हैं, और इस प्रकार किसानों को उत्पादित फसलों के खराब होने का अधिकतम खतरा रहता है।

किसानों द्वारा उत्पादित की जाने वाली फसलों को और उनकी सेल्फ लाइफ को बढ़ाने के लिए बिहार के भागलपुर के रहने वाले IIT स्नातक ने अपनी बहन के साथ मिलकर एक उपकरण का अविष्कार किया है।

ADVERTISEMENT

यह उपकरण सब्जी और फूलों को खास रूप से संग्रहित करके रखता है और नुकसान के खतरे को रोकता है। निक्की कुमार झा और रश्मि झा द्वारा तैयार किया गये उपकरण का नाम सब्जी कोठी रखा गया है, और यह सब्जी कोठी किसानों को उनकी फसलों की सेल्फ लाइफ को बढ़ाने के लिए एक वरदान साबित हो रही है। निक्की कुमार झा ने अपने स्टार्टअप का नाम Saptkrishi रखा है।

इस सब्जी कोठी में रेफ्रिजरेटर की तुलना में 10 गुना ज्यादा अधिक शक्ति होती है, यह सब्जी कोठी में किसान सब्जियों और फलों को 3 से लेकर 30 दिन तक संरक्षित करके रख सकते हैं। इस सब्जी कोठी रेफ्रिजरेटर की कीमत आम रेफ्रिजरेटर से भी आधी है और सब्जी कोठी को चलाने के लिए प्रतिदिन 1 लीटर पानी और 10  वाट बिजली की आवश्यकता होती है।

निक्की कुमार झा और रश्मि झा का कहना है कि इस सब्जी कोठी को चलाने के लिए केवल 10 वाट बिजली की आवश्यकता होती है और 10 वाट बिजली जैस हम प्रतिदिन मोबाइल फोन का इस्तेमाल करने के बाद उसे चार्ज में लगाते हैं और जितनी बिजली फुल चार्ज होने में लगती है।

किसानों के द्वारा तैयार की गई ऊपज को भंडारण की सुविधा की कमी के कारण और इसके साथ ही साथ बागवानी उत्पाद की बर्बादी को देखते हुए , निक्की झा ने अपनी बहन के साथ मिलकर यह सब्जी कोठी को तैयार किया है जो किसानों के लिए एक वरदान है और इनका तैयार किया गया यह सब्जी कोठी किसानों की फसलों को बर्बाद होने से बचा रहा है।

जानकारी के लिए आप सभी को बता दें कि यह सब्जी कोठी कर्बन डाइऑक्साइड, हाइड्रोजन और इसके साथ ही साथ वास्तव में तरल को ऑक्सीकरण करके वातावरण को नियंत्रित करके स्वच्छ बनाए रखता है।

जानकारी के लिए आप सभी को बता दें कि जब किसानों द्वारा उत्पादित फसलों को सब्जी कोठी में रखने पर सब्जी कोठी फसलों से उत्सर्जित होने वाला एथिलीन गैस को नष्ट नहीं होने देता है जिससे सब्जियों को सड़ने और गले में और खराब होने में काफी अधिक वक्त लगता है। यह सब्जी कोठी रेफ्रिजरेटर को एक स्थान से दूसरे स्थान कहीं पर भी आसानी से लेकर जाया जा सकता है।

किसानों द्वारा फसलों की कटाई के बाद फसलों को नियंत्रित और सुरक्षित रखने के लिए भंडारण की सुविधा ना होने के कारण आईटीआई निक्की झा ने यह सब्जी कोठी रेफ्रिजरेटर को तैयार किया और यह सब्जी कोठी रेफ्रिजरेटर का उपयोग करके किसान अपनी उत्पादित फसलों को आसानी से सब्जी कोठी में रखकर उनकी सेल्फ लाइफ को बढ़ा सकते हैं।

फसल के उत्पादन को एक बंद कमरे में रखने से फसल जल्दी ही नष्ट और खराब होनी शुरू हो जाती है परंतु अगर इसकी बजाय किसान सब्जी कोठी रेफ्रिजरेटर का इस्तेमाल करेंगे तो फसलों द्वारा उत्सर्जन होने वाला एथिलीन गैस को यह बाहर नहीं जाने देगा और इससे सब्जी और फल को सड़ने गले और खराब होने में काफी अधिक वक्त लगेगा।

निक्की झा और रश्मि झा बताते हैं कि अगर किसान बंद कमरे में सब्जियों और फलों का भंडारण ना करके सब्जी कोठी रेफ्रिजरेटर का इस्तेमाल करेंगे तो भंडारण में जितनी सब्जियां नष्ट होती है उसकी तुलना में सब्जी को ठीक कई अधिक सब्जियों की सेल्फ लाइफ को बढ़ा देगा, इस प्रकार किसानों को कम नुकसान होगा और फसलों के स्वच्छ और अच्छा रहने के कारण उन्हें अपने उत्पादन पर उचित लिए भी मिल पाएगा।

निक्की झा का कहना है कि वह शुरू से ही छोटे परिवार से पले बढ़े हैं और उनके पिता खेती बाड़ी का काम करते थे जब छोटे थे तब देखते थे कि उनके पिता फसल को उत्पादन करने के बाद फसलों को एक बंद कमरे में रखते थे ताकि जब तक इनका निर्यात हो तब तक फसलें अच्छी रहे परंतु ऐसा नहीं हो पाता था और अधिक से अधिक फसलें खराब हो जाती थी ।

और इस दौरान मैंने यह सोचा मैं बड़ा होकर जरूर इस समस्या का हल निकाल लूंगा वह कहते हैं कि भले ही मैं छोटे परिवार से था परंतु मेरे पिताजी ने मेरी पढ़ाई में किसी भी प्रकार की कमी नहीं कि आज मैं आईटीआई स्नातक पद पर हूं और इस दौरान मैंने अपने पिताजी की समस्या और अन्य कई किसानों की समस्या को दूर करने के लिए सब्जी कोठी रेफ्रिजरेटर का आविष्कार किया है।

इस दौरान वह कहते हैं कि सब्जी कोठी रेफ्रिजरेटर को तैयार करने का मेरा मकसद यही था कि किसान अपने उत्पाद को भंडारण के रूप में एक कमरे में रख कर बर्बाद ना करे और ना ही अपना नुकसान करें वह कम पैसों में को सब्जी कोठी रेफ्रिजरेटर खरीदे और इसका इस्तेमाल करें इनसे उनका मुनाफा भी अधिक होगा और नुकसान का खतरा काफी कम हो जाएगा।

आज आईटीआई स्नातक निक्की झा द्वारा तैयार की गई सब्जी कोठी ना केवल किसान इस्तेमाल कर रहे हैं बल्कि इसका इस्तेमाल करके उनका उत्पाद काफी स्वच्छ रहता है जिनसे उनकी बिक्री भी काफी अधिक होती है, निक्की झा द्वारा किसानों के लिए यह महत्वपूर्ण खोज एक वरदान से कम नहीं है।

 

लेखिका : अमरजीत कौर

यह भी पढ़ें :

MNC की नौकरी छोड़ शुरू किया, पोर्टेबल टेरेस फार्मिंग अब 1500 से अधिक लोगों को जोड़ा है खेती से

Similar Posts

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *